पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही पड़ेगी भारी:पीरो में लाॅकडाउन के दिशा-निर्देश नहीं मानने पर 31 दुकानें सील, खतरे के बावजूद लोग गंभीर नहीं

पीरोएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पीरो में दुकान सील कराते बीडीओ। - Dainik Bhaskar
पीरो में दुकान सील कराते बीडीओ।
  • कई जगहों पर गलत तरीके से दुकान खोलने पर प्रशासनिक अिधकारियों ने अभियान चला की सख्त कार्रवाई
  • बीडीओ और थानाध्यक्ष के नेतृत्व में चलायी गयी दुकान बंद कराने की मुहिम

लाकडाउन चल रहा है। लेकिन पीरो के दुकानदार मनमानी कर रहे हैं। आवश्यक सामानों के दुकानों की खुलने की आड़ में यहां बाजार की सैकडो़ं दुकानों की शटर खुल रही है। जब प्रशासन ने इन दुकानों को नियम के विपरीत है खुलते देखा तक इस पर कठोर कार्रवाई की है प्रशासन ने तीरो अनुमंडल मुख्यालय में कोरोनावायरस और लॉकडाउन के नियम की अवहेलना के आरोप में 31 दुकानों को सील कर दिया। शुक्रवार को बीडीओ मानेन्द्र कुमार सिंह,थानाध्यक्ष अशोक कुमार चौधरी दुकानों को बंद कराने निकले थे। उस वक्त मेन गली, कपड़ा मार्केट (गोला) की करीब सभी दुकानें खुली मिली। जिसमें कपड़ा, रेडीमेड, जूता-चप्पल, श्रृंगार, पान, सजावट, वर्तन, इलेक्ट्रॉनिक्स सहित कई अन्य तरह की दुकानें थी। इससे खफा बीडीओ ने 31 दुकानों को सील करने की अनुशंसा पीरो अनुमंडल के एसडीएम से किया। इसके बाद दोपहर को सभी दुकानों को सील कर दिया गया। जिसमें स्नेहा कलेक्शन, बहुरानी, प्रिंस वस्त्रालय, प्रदीप वस्त्रालय, संजय वस्त्रालय, कृष्णा वस्त्रालय, मुन्नीलाल, शिव गंगा, चुन्नू फुटवेयर, शिमला वस्त्रालय, सुरेन्द्र श्रृंगार, भारत शू, राजा फैशन, मोहन श्रृंगार, गोपाल वस्त्रालय, सोनू फुटवेयर, मंटू रेडीमेड, द्रौपदी श्रृंगार, मीनाक्षी कुर्तिवाला, साहिबा श्रृंगार, दुल्हन श्रृंगार, द्रौपदी वस्त्रालय, विमल वस्त्रालय, पटेल पैलेस, पूजा सजावट,रितुराज साड़ीवाले, शमा इलेक्ट्रॉनिक्स, पूजा वर्तन, फैन्सी इलेक्ट्रॉनिक्स, स्टार इलेक्ट्रॉनिक्स, प्रिंस पान भंडार सहित 31 दुकानें शामिल हैं। सरकार द्वारा सुबह से 11 बजे तक आवश्यक सामानों दूध, फल, सब्जी, किराना सहित कई अन्य को छूट दी गई है। ऐसे में उपरोक्त दुकानदार भी मनाही के बावजूद दुकानों को खोलकर बिक्री कर रहे थे। इन दुकानदारों की दलील है कि लग्न का समय चल रहा है। ईद भी कुछ दिनों में आने वाला है। ऐसे में दुकानदारी ठप हो जाने से पूरे वर्ष आर्थिक कठिनाई होगी। दूसरी ओर कोरोना महामारी चल रही है, ऐसे में सरकार का गाइडलाइन पालन कराना है जिससे प्रशासन सख्ती बनाए हुए है। बीडीओ ने कहा कि बार बार चेतावनी के बाद भी दुकानदार नहीं मान रहे थे। जिससे कदम उठानी पड़ी। लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए सरकार के निर्देश के अनुसार हर प्रकार की सख्ती की जाएगी।

गड़हनी में लाॅकडाउन का नहीं हो रहा अनुपालन

गड़हनी | सरकार ने कोरोना चेन तोड़ने के लिए लाॅकडाउन लगाया था। लेकिन इसका असर गड़हनी बाजार में नहीं है। खुलेआम मेंस पार्लर, वस्त्रालय, मिष्ठान भण्डार व अन्य दुकानें खुल रही है। शुक्रवार को लाकडाउन का कोई असर गड़हनी बाजार पर नहीं रहा। सुबह 12 बजे तक सभी दुकानें प्रतिदिन खुल रही हैं। जबकि सरकार ने सुबह 7 बजे से 11 बजे तक मेडिकल, खाद्य पदार्थ व कुछ और दुकानें खोलने के लिये गाइडलाइन जारी किया था। पुलिस- प्रशासन एक-दो बार निकलकर सिर्फ लाठियां दिखाकर अपना कोरम पूरा कर लेते हैं। यहां हालात है कि शटर गिरा कर बैकडोर से भी सामानों की बिक्री की जा रही है। खचाखच भीड़ सुबह बाजारों में दिख रही है। कोरोना काल में ये लापरवाही सभी को भारी पड़ सकती है। ऐसे में ऐसी लापरवाही से बचना जरूरी है।

खबरें और भी हैं...