वट सावित्री पूजा / पति के दीर्घायु होने के लिए की गई वट वृक्ष की पूजा

Vat tree worshiped for longevity of husband
X
Vat tree worshiped for longevity of husband

  • कोरोनवायरस के संक्रमण को रोकने को लेकर जारी लाॅकडाउन के बावजूद महिलाओं ने दिखाया उत्साह

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

पीरो. पति की दीर्घायु होने व निरोगता की कामना को लेकर शुक्रवार को महिलाओं ने वट सावित्री का व्रत रहकर वट वृक्ष की पूजा-अर्चना की। सुबह से निराहार रहकर महिलाओं की टोली श्रृंगार कर वट वृक्ष के पास पहुंची।वृक्ष में कच्चे धागे लपेटकर परिक्रमा किया। फल-फूल अर्पित कर पति के दीर्घायु होने की कामना की। स्थानीय थाना के पास, स्टेशन रोड स्थित वट वृक्ष के पास महिलाओं की सबसे अधिक भीड़ जुटी। प्रखंड के कई गांवो में स्थित अन्य वट वृक्षो के पास भी सुबह से भीड़ रही।

जिससे लाॅकडाउन के दौरान सोशल डिस्टेंस का ध्यान नहीं रहा। विद्धान पंडितो ने महिलाओ को वट सावित्री की कथा सुनाया। घर आकर पति की पूजा-अर्चना की। पतियों ने भी पत्नी को सहयोग प्रदान किया। घर के कार्यों में हाथ बंटाया। वट सावित्री व्रत को पतिव्रता सावित्री व सत्यवान की कथा से जोड़कर देखा जाता है। अल्पायु होनें के कारण यमराज ने सत्यवान के प्राण का हरण कर लिया था।

जिससे अपने पति की जीवन को लौटानें के लिए सत्यवती यमराज के साथ-साथ चलने लगी। सत्यवती के इस समर्पण से खुश होकर यमराज ने उसके पति को जीवित कर दिया। उसके वाद से पतिव्रता स्त्रिीयां इस व्रत को करती आ रही हैं। मान्यता है कि वट वृक्ष के नीचे सावित्री ने अपने पति को यमराज से वापस पाया था। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार वट वृक्ष में ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास बताया जाता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना