नक्सलियों पर नकेल / माओवादियों के छुपाए 5 हथियार व पर्चे बरामद, ईंट-भट्ठे को बनाया था ठिकाना

5 weapons and pamphlets recovered from Maoists, brick-kiln was made as a hideout
X
5 weapons and pamphlets recovered from Maoists, brick-kiln was made as a hideout

  • परैया थाने के तांती इलाके में गुप्त सूचना के आधार पर चला ऑपरेशन
  • एसएसबी के ऑपरेशन में मिली बड़ी सफलता

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

परैया. परैया थाना के तांती के इलाके में सुरक्षाबलों के सर्च ऑपरेशन में नक्सलियों के खिलाफ बड़ी सफलता हाथ लगी है। सुरक्षाबलों की टीम ने कई हथियार-कारतूस के अलावा नक्सली पर्चे-साहित्य की भी बरामदगी की है। इस इलाके में नक्सलियों ने ठिकाना बना रखा था और काफी गोपनीय तरीके से अपनी गतिविधियों का संचालन करने में जुटे थे।

इसी क्रम में गुप्त सूचना मिलने के बाद कोंच सशस्त्र सीमा बल के 29 वीं वाहिनी सी समवाय का ऑपरेशन कमांडेंट राजेश कुमार सिंह के निर्देश पर उपकमांडेंट उपेन्द्र कुमार के नेतृत्व में चलाया गया। इसमें सी-कम्पनी कमांडर इंस्पेक्टर लोकेश कुमार, एसएसबी के जवान तथा परैया थाना के एएसआई कृष्णा राम शामिल थे। ऑपरेशन के दौरान तांती गांव के पूरब मोरहर नदी के किनारे स्थित बाबा ईंट भट्ठा के समीप चली कार्रवाई के दौरान काफी संख्या में हथियार की बरामदगी की गई। एसएसबी लगातार नक्सलियों के खिलाफ आपरेशन चला रही है।
देशी राइफल, थ्रीनट और देशी कट्टा मिले, नियमित सर्च अभियान में सुराग हाथ लगा था
बरामद हथियार में एक देशी राइफल, दो देसी कट्टा, दो देशी थ्रीनट राइफल के अलावा पांच 7.6 एमएम कारतूस, पांच 8 एमएम के कारतूस और नक्सली पर्चा व साहित्य बरामद किया गया। इसे परैया थाना को सुपुर्द कर दिया गया। इस संबंध में परैया थानाध्यक्ष रंजन चौधरी ने बताया कि बाबा ईंट भट्ठा बीते तीन साल से बंद था। नक्सली क्षेत्र होने के कारण ईंट भट्ठे को ठिकाना बना लिया गया था। माओवादी यहीं अपने हथियार छुपाकर रख रहे थे। नक्सली गतिविधि को लेकर क्षेत्र में नियमित तौर पर चलने वाले अभियान में ईंट भट्ठे से नक्सलियों के कनेक्शन का सुराग मिला था। मामले की छानबीन करते हुए एफआईआर दर्ज करने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है। 
पहले भी ईंट- भट्ठे से असलहे की होती रही है बरामदगी
विदित हो कि पूर्व में भी मिर्जाचक स्थित लक्ष्मी ईंट-भट्ठे से चार कैन बम, दो डेटोनेटर व कॉटन वायर बरामद किया गया था। भट्ठे के बंद होने के बीच माओवादियों ने इसे सुरक्षित जोन बनाया था। बाद में लक्ष्मी ईंट भट्ठा शुरू किया गया तो साफ-सफाई  के क्रम में विस्फोटक मिले थे। इसके अलावा पहरा स्थित उच्च विद्यालय में केन बम रखने की घटना तीन बार घटी है, जिसको एसएसबी के बम निरोधी दस्ता द्वारा डिफ्यूज किया गया। परैया थाना से कोसों दूर होने के कारण पहरा पंचायत में निरंतर नक्सली गतिविधि देखी जाती है, जिसको लेकर पुलिस की परेशानी लगातार बनी रही है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना