उपलब्धि:वोकल फॉर लेकल की तर्ज पर खुला झोपड़ी उद्योग अब ब्रांडेड उत्पादों को दे रहा है टक्कर

रहुई10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रहुई में खुली झोपड़ी इकाई। - Dainik Bhaskar
रहुई में खुली झोपड़ी इकाई।

नालंदा जिले में रहुई प्रखंड के पैठना और भागन बीघा के बीच नेशनल हाईवे 31 के समीप खाद्य पदार्थ का उत्पादन केन्द्र खोला गया है। इस झोपडी़ (एफएमसीजी) ईकाई की स्थापना केंद्र एवं राज्य सरकार के वोकल फ़ॉर लोकल के आधार पर किया गया है। झोपड़ी इकाई शुरू होने से जिले के युवाओं को श्रम और व्यापार के माध्यम से रोजगार के प्रचूर अवसर के साथ राज्य के लोगों को शुद्ध खाद्य पदार्थ की उपलब्धता उचित मूल्य पर कराई जायेगी। झोपड़ी उद्योग इकाई द्वारा 100 प्रतिशत शुद्ध जैविक स्वदेशी उत्पाद आटा, बेसन, सूजी, मैदा, शुद्ध सरसों कच्ची घानी तेल एवं सभी प्रकार के मसालों का उत्पादन किया जाएगा। संचालक विनीत कुमार ने बताया कि झोपड़ी उद्योग द्वारा जितने भी बनने वाले खाद्य पदार्थ है बड़े-बड़े कंपनियों के उत्पाद को टक्कर देने वाला है। इस उद्योग के लिए सबसे ज्यादा जरूरतमंद चीज है वह तो इसके नाम में ही छिपा हुआ है। झोपड़ी आटा चोकर युक्त होने की वजह से सभी पौष्टिक तत्व इनमें मौजूद हैं। उन्होंने बताया कि झोपड़ी आटा उद्योग में कुछ दिनों के बाद कैमरे की पैनी निगरानी में लैब टेस्टिंग कराया जाएगा। जिससे यह साबित होगा कि झोपड़ी आटा दूसरी कम्पनी की तुलना में कितना शुद्ध है। खास बात यह है कि झोपड़ी उद्योग से तैयार होने वाली आटा बिल्कुल चोकर युक्त है और इसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक होने के कारण शुद्ध देसी आटा बड़े पैमान पर नालंदा जिला के अलावा पूरे बिहार में मांग किया जा रहा है। बताते चलें कि झोपड़ी उद्योग का उद्घाटन 17 सितंबर को पूर्व विधायक इंजीनियर सुनील कुमार, इसलामपुर के पूर्व विधायक चन्द्रसेन प्रसाद, पूर्व एमएलसी राजू गोप द्वारा किया गया था।
100 से 200 लोगों को मिलेगा रोजगार
उन्होंने बताया कि केंद्र और राज्य सरकार लघु उद्योग को बढ़ावा देने पर जोर दे रही है। इसके लिए नए नए उद्योग को कई तरह की राहत भी दी जा रही है। नए उद्योग स्थापित करने के लिए बिहार सरकार की तरफ से प्रोत्साहन राशि भी दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने लोकल को वोकल करने का आह्वान किया है। हम चाहते हैं कि हमारे देश और राज्य के लोग सशक्त और आत्मनिर्भर बने, हमारी झोपड़ी उद्योग में गांव के किसानों से गेहूं खरीदकर कारखाना में उपलब्ध कराया जाएगा। जिससे किसान को भी फायदा मिलेगा। आने वाले दिन में इस झोपड़े उद्योग से हजारों टन आटा, मैदा, बेसन, तेल सप्लाई किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...