उदासीनता:छठघाट बना जानलेवा, हादसे की आशंका

रोहएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पूजा में अब कुछ दिन ही शेष, लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों को चिंता तक नहीं

रोह प्रखंड मुख्यालय के कजोखर तालाब और छठघाट इनदिनों जानलेवा बन गया है। जानलेवा बनाने का मुख्य बजह उस तालाब की विगत कुछ महीने पहले खुदाई की गई थी। खुदाई के बाद उस तालाब के किनारे तरफ लगभग छह से सात फीट का गडढा है। उस गडडे में लगभग लबालब पानी जमा है। उस पानी में उतरते ही सीधे पानी के अंदर चला जायेगा। रोह बाजार के लगभग अधिकांश लोग इसी छठघाट पर जाकर अर्ध देते हैं।

अर्घदान के दौरान हादसे की आशंका बनी हुई है। इस हादसे से अनजान प्रशासन के लोग इस ओर ध्यान नही दे रहें हैं। विगत कई सालों से इस तालाब का घाट खराब था। उसके बाद इस तालाब की खुदाई जल जीवन हरियाली से की गई। तालाब खुदाई के संवेदक द्वारा तालाब को अच्छे तरीके से समान्तर नही करने के कारण यह परेशानी बनी है। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है की रोह प्रखंड मुख्यालय के एक मात्र तालाब को भी खतरनाक बना दिया। तालाब में एक कदम रखते ही सीधे पांच से छह फीट गहरे पानी में जाकर गिरेगा।

छठ पर्व के दौरान हजारों की संख्या में महिलाएं और बच्चे इसी घाट पर जाकर पर्व मानते हैं। सबसे ज्यादा परेशानी छठव्रतियों को होगी। छठ पर्व के दौरान उन्हें तालाब के पानी में स्नान करना होता है। स्नान करने के दौरान छठव्रती पर हादसे की आशंका देखी जा रही है।

वहीं इस छठघाट की साफ सफाई अभी तक नही की गई आगामी कुछ दिनों में इसी तालाब के घाट पर अर्घदान होगा और अभी तक ना तो प्रशासन की ओर से इस घाट पर ध्यान नही दिया गया है। स्थानीय लोगों का कहना है इस इस पर्व के दौरान अगर किसी प्रकार की घटना घटती है तो यह जिम्मेदारी किसकी होगी। छठघाट सही नही रहने से आम जनता में रोष है।

खबरें और भी हैं...