पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैनर तो लगा दिए, खाना कहां है हुजूर:रोहतास में सामुदायिक रसोई के नाम पर लूट, बिना भोजन बने रोज 74 लोगों के खाने की बन जाती है लिस्ट

करगहर/रोहतास23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
करगहर प्रोजेक्ट बालिका विद्यालय में कम्युनिटी किचेन का लगा पोस्टर। - Dainik Bhaskar
करगहर प्रोजेक्ट बालिका विद्यालय में कम्युनिटी किचेन का लगा पोस्टर।

रोहतास जिले के करगहर प्रोजेक्ट बालिका विद्यालय में कम्युनिटी किचेन बनाया गया है, दावा यह है कि यहां रोज 74 लोगों का खाना बनता है, लेकिन हकीकत यह है कि यह किचेन सिर्फ कागज पर संचालित है। यहां न चूल्हा जलता है और न लोग खाते दिखते हैं। हालांकि प्रशासन के द्वारा प्रचार-प्रसार के लिए बैनर लगाया गया है, लेकिन विद्यालय परिसर में बीते कई दिनों से सामुदायिक किचेन नहीं चल रहा है, जिसके कारण राहगीर को कम्युनिटी किचेन का भोजन नहीं मिल पा रहा है।

बैनर कहीं और, खाना कहीं बनाया जा रहा
जानकारी के अनुसार यह कम्युनिटी किचन एक घर में संचालित होता है, जहां से सीमित लोगों तक ही भोजन पहुंच पाता है। करगहर अंचल के नाजिर के अनुसार यहां रोज 74 लोगों को भोजन कराने की लिस्ट बनाई जा रही है, लेकिन यह कब और किसको पहुंचता है, इसकी कोई सुध लेने वाला नहीं है।

स्थानीय लोगों को किचेन के बारे में पता तक नहीं
करगहर महादलित बस्ती सहित कई गरीब लोगों से बात की गई तो उन्होंने कम्युनिटी किचन के बारे में जानकारी तक नहीं होने की बात कही। उनलोगों ने बताया कि कम्युनिटी किचन का खाना तो दूर, पिछले 2 माह से राशन तक नहीं मिला है। लॉकडाउन में उनके सामने भुखमरी की स्थिति है। लोगों का कहना है कि सरकार द्वारा चलाया जा रहा कार्यक्रम लूटो और बांटो की तर्ज पर चल रहा है। वहीं कम्युनिटी किचन चलने वाले विद्यालय के चपरासी ने बताया कि अधिकारी के आने की सूचना पर यहां किचन चलाया गया था, लेकिन फिलहाल यह किचेन अभी नहीं चल रहा है। राहगीरों एवं जरूरतमंदों को समुदायिक किचन का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

खबरें और भी हैं...