हजारों दिपों से जगमग हुआ रोहतास का ताराचंडी धाम:मां के दर्शन के लिए उमड़ी भक्तों की भारी भीड़, धाम में श्रद्धालुओं के हजारों दीपों से रौशन हुआ परिसर

रोहतास8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ताराचंडी धाम में भक्तों ने प्रज्जवलित किया अखण्ड दीप। - Dainik Bhaskar
ताराचंडी धाम में भक्तों ने प्रज्जवलित किया अखण्ड दीप।

रोहतास जिले के प्रसिद्ध ताराचंडी धाम में नवरात्रि के प्रथम दिन मां के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। मां के दर्शन के बाद परंपरानुसार सैकड़ों भक्तों ने धाम परिसर में अखण्ड दीपों को प्रज्जवलित किया। अब ये अखण्ड दीप पूरे नवरात्र में निरंतर प्रज्जवलित होते रहेंगे। भक्त नवमी को हवन, पूजन एवं मां के दर्शन के बाद इन दीपों का विसर्जन करेंगे।

वहीं इन अखण्ड दीपों को निरंतर प्रज्जवलित करने की जिम्मेदारी स्थानीय पुजारियों का समूह निभाता है, जो अपने-अपने जजमानों के दीपों में निरंतर घी आदि डालकर प्रज्जवलित रखते हैं।

इस दौरान ताराचंडी धाम कमिटी के मंत्री सोनू सिंहा ने बताया कि गत वर्ष नवरात्रि में कोरोना के कारण मंदिर आम लोगों के लिए बंद था। इसलिए इस वर्ष भक्तों में विशेष उत्साह देखा जा रहा है। नवरात्रि के प्रथम दिन इस वर्ष श्रद्धालुओं की संख्या में बहुत ज्यादा वृद्धि देखी गई है।

दशकों पुरानी है परंपरा

बताया कि धाम परिसर में नवरात्रि में अखण्ड दीप जलाने की दशकों पुरानी परंपरा है। इस बार अखण्ड दीपों की संख्या तीन हजार से ज्यादा है। दीप प्रज्जवलन स्थल पर तीन तल्ला का निर्माण कर इनके लिए विशेष व्यवस्था की गई है। अखण्ड दीपों को विशेष प्रकार के मिट्टी की ढक्कनों से ढंका जाता है, जो उपर से कटे होते हैं। इन ढक्कनों पर पर दीप प्रज्जवलित करने वाले भक्तों के नाम भी लिखे रहते हैं, जिससे उन्हे आने-अपने दीपों को निरंतर प्रज्जवलित रखने में सहुलियत होती है। बताया कि स्थानीय लोग ही नहीं बाहरी लोगों के नाम पर दीप प्रज्जवलित किए जाते हैं। पटना, रांची यहां तक कि गुजरात के भक्तों के दीप प्रज्जवलित किए गए हैं। ऐसी मान्यता कि अखण्ड दीप जलाने से मां भक्तों की मनोकामना पूरी होती है।

खबरें और भी हैं...