पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बीजों की उपलब्धता:नीलगाय और हिरण धान के बिचड़ों को कर रहे क्षतिग्रस्त

सहार25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सहार प्रखंड के पेऊर, बंशी डिहरी, बरूही, बजरिया समेत अन्य गांव में नीलगायों और हिरणों की उपस्थिति ने किसानों के बीच भय का माहौल कायम कर दिया है। उन्हें इस वर्ष धान रोकने के लिए बीजों की उपलब्धता की चिंता होने लगी है। क्योंकि यह जंगली पशु इन गांवों के खेतों में जाकर धान के बिचड़ों को क्षति पहुंचा रहे हैं। इन पशुओं के आतंक से परेशान किसान अपने बिचड़ों की रक्षा के लिए चौबीसों घंटे पहरा देते फिर रहे हैं। अपने -अपने खेतों के नजदीक खड़े किसान राधा मोहन राय, लाला चौधरी, विजय राय, संतोष राय, धर्मेंद्र राय, राजेंद्र चौधरी, मुरारी राय सहित अन्य किसानों ने बताया कि हिरण और नीलगायों की संख्या बहुत बढ़ गई है।

यह जंगली पशु रात के अलावा सुबह और शाम भी खेतों में आकर बिचड़ों को खाकर बर्बाद कर रहे हैं। उन्होंने जंगली पशुओं के द्वारा नष्ट किए गए फसल और जंगली पशुओं के पैरों के निशान भी दिखाए। बुधवार को जंगली पशुओं से परेशान किसानों की समस्या की लिखित शिकायत बरूही के जदयू पंचायत अध्यक्ष विवेक कुमार ने अंचलाधिकारी अशोक कुमार चौधरी को करते हुए इसका निदान करने की मांग की।

खबरें और भी हैं...