पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

चुनाव:डेहरी विधानसभा सीट पर दलीय नेताओं के साथ-साथ निर्दलीय ने भी मारी है बाजी

सासाराम8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोहतास में इस चुनाव में 116 प्रत्याशियों में 46 निर्दलीय

(पंकज सिंह) बिहार विधान सभा इलेक्शन के लिए चुनावी युद्ध का मैदान पूरी तरह से सज- धज कर तैयार हो चुका है। जंग में लड़ाकू भी विजय हासिल करने के लिए पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतर चुके हैं। इसमें दलीय के साथ-साथ निर्दलीयों की भी अच्छी खासी संख्या नजर आ रही है।

सातों विधानसभा को मिलाकर कुल 116 प्रत्याशियों में 46 निर्दलीय हैं। जो अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों से जीत की हुंकार भर रहे हैं। हालांकि अभी तक रोहतास जिले के चुनावी इतिहास में निर्दलीय उम्मीदवारों को कोई खास सफलता हासिल नहीं हुई है। लेकिन अगर डेहरी विधानसभा क्षेत्र के इतिहास पर नजर डाला जाए तो यहां से दलीय के साथ-साथ निर्दलीय प्रत्याशियों को भी सफलता हासिल हो चुकी है।

15 साल बाद एक बार फिर से उस इतिहास को दोहराने की आस में इस बार भी कई निर्दलीय ताल ठोकते नजर आ रहे हैं। इस बार डेहरी से कुल 7 दलीय एवं 7 निर्दलीय प्रत्याशी चुनावी दंगल में उतरे हुए हैं। इसमें पूर्व निर्दलीय प्रत्याशी प्रदीप कुमार जोशी भी अपनी पार्टी राष्ट्र सेवा दल से मैदान में डटे हुए हैं।

दो बार निर्दलीय प्रत्याशियों को मिली है जीत
इस विधानसभा क्षेत्र से अभी तक दो बार निर्दलीय प्रत्याशियों को जीत हासिल हो चुकी है। पहली बार 2005 अक्टूबर के विधानसभा चुनाव में प्रदीप कुमार जोशी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में विजयी रहे थे। उन्होंन राजद के मो. इलियास हुसैन को 43,277 वोटों से हराया था। प्रदीप कुमार जोशी को कुल 70,558 वोट मिले थे। वहीं, दूसरे नंबर पर रहे इलियास हुसैन को 27,281 वोट मिले थे।

इसके बाद 2010 के विधानसभा चुनाव में उनकी ही पत्नी ज्योति रश्मि निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में बाजी मारने में सफल रही। ज्योति रश्मि ने राजद के मोहम्मद इलियास हुसैन को ही 9 हजार 815 वोटों से हराया था। ज्योति रश्मि को कुल 43,634 एवं इतिहास हुसैन को 33 हजार 819 वोट मिले थे। लगातार दो चुनावों में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में दोनों बार पति-पत्नी ने राजद प्रत्याशी मो. इलियास हुसैन को धूल चटा दी थी।

मो. इलियास को 6 बार विधानसभा भेज चुकी है डेहरी की जनता
काराकाट लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली ये सीट आरजेडी के दिग्गज नेता मोहम्मद इलियास हुसैन का गढ़ हुआ करती थी। वह 6 बार यहां से विधायक रहे हैं। 2015 के चुनाव में भी उन्होंने जीत हासिल की थी, लेकिन 2019 में यहां पर हुए उपचुनाव में उनके बेटे मोहम्मद फिरोज हुसैन को मात मिली और ये सीट बीजेपी के कब्जे में चली गई। बीजेपी के सत्यनारायण सिंह यहां के वर्तमान विधायक हैं। दरअसल, भ्रष्टाचार के एक मामले में दोषी ठहराए जाने की वजह से वह विधानसभा की सदस्यता के अयोग्य हो गए और इसके कारण खाली हुई डेहरी सीट पर उपचुनाव कराना पड़ा था।

1951 में डेहरी के पहले विधायक चुने गए थे बसावन सिंह
साल 1951 में पहले विधानसभा चुनाव में समाजवादी नेता बसावन सिंह यहां के पहले विधायक चुने गए थे। उसके बाद अब्दुल कयूम अंसारी, खालिद अनवर जैसे नेताओं ने इस इलाके का प्रतिनिधित्व किया। 1980 में मोहम्मद इलियास हुसैन जनता पार्टी (सेकुलर) से चुनाव मैदान में आए और उन्होंने कांग्रेस के खालिद अनवर को 5366 मतों से पराजित किया। इसके बाद 6 बार मो. इलियास हुसैन को डेहरी विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला। मोहम्मद इलियास हुसैन ने 1980 के अलावा 1990, 1995, 2000, 2005, 2015 के विधानसभा चुनाव में जीतकर इस सीट पर कब्जा जमाए रखा।

सोन नदी के बालू से सरकार को राजस्व, फिर भी विकास से बाधित
2011 की जनगणना के अनुसार डेहरी की जनसंख्या 395159 है। यहां की 65.27 फीसदी आबादी ग्रामीण और 34.73 फीसदी आबादी शहरी क्षेत्र में रहती है। कुल जनसंख्या में से अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) का अनुपात क्रमशः 16.91 और 0.18 है। डेहरी विधानसभा क्षेत्र का पूर्वी भाग सोन नदी से घिरा हुआ है। पूरी तरह से प्राकृतिक सौंदर्य से घिरा हुआ यह इलाका इंद्रपुरी के सोन बराज के लिए भी जाना जाता है। सोन नदी से बालू उत्खनन से यह इलाका सरकार को अरबों रुपए का राजस्व उपलब्ध कराता है. लेकिन फिर भी यह इलाका विकास से बाधित है।

2019 उपचुनाव में पहली बार बीजेपी ने लहराया था परचम
वर्ष 2015 में यहां पर 53 फीसदी मतदान हुआ था। चुनाव में आरजेडी के मोहम्मद इलियास हुसैन ने बीएलएसपी के जितेंद्र कुमार को हराया था। मोहम्मद इलियास हुसैन को 49,402 (33.92 फीसदी ) वोट मिले थे और जितेंद कुमार को 45,504 (31.24 फीसदी) वोट हासिल हुए थे। मोहम्मद इलियास हुसैन ने जितेंद्र कुमार को 3 हजार से ज्यादा वोटों से शिकस्त दी थी।

सत्यनारायण ने इलियास के पुत्र फिरोज को दी थी शिकस्त
2019 में डेहरी में उपचुनाव हुआ, जिसमें बीजेपी ने जीत हासिल की. बीजेपी के सत्यनारायण सिंह ने आरजेडी उम्मीदवार मोहम्मद फिरोज हुसैन को मात दी। सत्यनारायण सिंह को डेहरी में 72,097 वोट मिले जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी मोहम्मद फिरोज हुसैन को 38,104 वोट मिले थे। फिरोज हुसैन के पिता मोहम्मद इलियास हुसैन ने 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में डेहरी सीट पर जीत दर्ज की थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें