पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

करें पहल:दिवाली पर पटाखे छोड़ने से बचें, खुशी के दीये जलाएं, औरों की भी करें मदद

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आतिशबाजी न छोड़ने की मुहीम में प्रत्येक नागरिक को आगे आना होगा

बढ़ती आबादी और सड़कों पर अंधाधुंध वाहनों के अलावा कारखानों से निकलने वाले धुएं से पर्यावरण पहले से ही प्रदूषित है। मगर, आने वाली दिवाली की रात छूट ने वाले पटाखों के धुएं से यह प्रदूषण कई गुना बढ़ने का खतरा है। कोरोना के दौर में हवा में प्रदूषण का बढ़ना इंसान ही नहीं, जीव जंतुओं के जीवन के लिए भी खतरनाक हो सकता है। कोरोना के दौर में पटाखे या आतिशबाजी छुड़ाने से जितना बचा जाए, उतना ही अच्छा है। दिवाली में दीये की रोशनी पूरा वातावरण रोशन करती है। मगर, पटाखे हवा में प्रदूषण की मात्रा कई गुना बढ़ा देते हैं।

कुछ पल की खुशी और पैसे के दिखावे के आगे तमाम लोग हर साल बढ़ते प्रदूषण से आंखें मूंदे रहते हैं। उन्हें शायद यह पता नहीं होता कि वह पटाखे और आतिशबाजी जलाकर अपने आसपास ही नहीं बल्कि पूरे वायुमंडल में प्रदूषण का जहर घोलते हैं। इस बार तो कोरोना का दौर है। कोरोना हवा में ही तेजी से फैलता है। अगर पर्यावरण प्रदूषित होगा तो कोरोना भी उतनी तेजी से ही फैलकर संपूर्ण मानव जाति को नुकसान पहुंचा सकता है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अलावा समाज के बुद्धिजीवी भी इसे लेकर आम लोगों को आगाह करने में जुटे हैं।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अलावा बुद्धिजीवी भी लोगों को आगाह कर रहे

आतिशबाजी के दौरान लापरवाही से खतरा

दिवाली पर पटाखों और आतिशबाजी का शोर कान के लिए पहले से खतरनाक है। आतिशबाजी और पटाखे छुड़ाने के शौकीन तुरंत इस बात को अनदेखा कर देते हैं कि उससे पर्यावरण को नुकसान होगा। चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि तेज आवाज वाले धमाकेदार पटाखों की आवाज और उससे निकलने वाली जहरीली गैसें बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक के लिए बेहद नुकसानदायक है। यह किसी की भी जिंदगी खतरे में डाल सकती है। इस बार भी शौकीन पटाखे और आतिशबाजी छुड़ाने के लिए दिवाली के दिन का इंतजार कर रहे हैं। इधर, विशेषज्ञों प्रदूषण बढ़ने पर कोरोना के घातक होने का अंदेशा जताया है। उनका कहना है कि हानिकारक पटाखों के न छुड़ाने के अभियान हर साल चलते हैं। प्रदूषण रहित दिवाली मनाने का असर भी देखने को मिलता है। मगर पटाखे या आतिशबाजी न छुड़ाने के लिए प्रत्येक नागरिक को आगे आना होगा।

पटाखों की रकम से बेरोजगारों की मदद करें
स्थानीय समाजसेवी शेषनाथ ओझा, कामगार कांग्रेस के जिलाध्यक्ष सुनील तिवारी आदि कहते है कि रंगबिरंगी आतिशबाजी निश्चित रूप से खुशियों का प्रतीक है, मगर यह खुशियां पर्यावरण को दूषित करती हैं। कोरोना काल में दिवाली की खुशियां मनाने के लिए हम आतिशबाजी या पटाखों पर रुपये खर्च करने के बजाय ऐसे लोगों की मदद करें, जो लॉकडाउन में अपनी नौकरी गंवा बैठे हैं।

पटाखों मेें मौजूद कण से सेहत पर बुरा असर

शहर के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. आलोक तिवारी की माने तो दिवाली अपने साथ बहुत सारी खुशियां लेकर आती है, मगर हानिकारक पटाखों मेें मौजूद छोटे कण सेहत पर बुरा असर डालते हैं। उसका असर फेफड़ों पर पड़ता है और हालात यहां तक भी पहुंच सकते हैं कि आर्गन फेल और मौत तक हो सकती है। बेहतर होगा कि सभी मिलकर प्रदूषण रहित दिवाली मनाएं। उन जरूरतमंदों को खुशियों में शामिल करें, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं।

नोखा बाजार धनतेरस को लेकर बाजार में रही भीड़, खरीददारों की उमड़ी भीड़

नोखा में धनतेरस के अवसर पर बाजारों से लेकर में ग्राहकों की जमकर भीड़ उमड़ी। हर कोई कुछ न कुछ खरीदता नजर आया। इलेक्ट्रिक झालर, बर्तन, गिफ्ट आइटम और परिधानों से संबंधित हर दुकान पर खरीदारों का तांता लगा रहा। कोरोना काल के बावजूद बिक्री में एकाएक हुई बढ़ोत्तरी से कारोबारी भी खुश दिखे। भीड़भाड़ के चलते नोखा के मुख्य बाजार में पर पूरे दिन जाम की स्थिति भी बनी रही। धनतेरस को लेकर कोरोना काल में भी बाजारों में ग्राहकों की भीड़ नजर आ रही है।

इलेक्ट्रिक दुकानों से लेकर बाइक, कार शो रूमों और मॉल में ग्राहक खरीदारी करने के लिए तेजी से पहुंच रहे हैं। धनतेरस की तैयारियों में जुटे दुकानदारों में भी उत्साह है। रुई से लेकर कलेंडर तक की खूब बिक्री हुई। सर्राफा बाजार भी चमक बिखेरने को तैयार हैं। धनतेरस को भुनाने के लिए दुकानदारों ने भी ग्राहकों की पसंद को देखते हुए सभी तैयारियां पूरी कर रखी हैं। इलेक्ट्रिक झालरों से लेकर मिठाई, बाइकों व मिट्टी के दीपकों आदि की भी बिक्री हो रही है। बाजार में भीड़ के कारण रुक-रुककर जाम भी लगता रहा। फुटपाथों पर गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति, खील व चीनी के खिलौनों की दुकानें सज गई हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser