पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मानसून इफेक्ट:पहाड़ी नदियों में उफान, बराज से छोड़ा गया 56 हजार क्यूसेक पानी

इंद्रपुरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंद्रपुरी बराज में शनिवार को जमा हो गया था 60 क्यूसेक पानी
  • मानसून के शुरुआत में ही बराज के आधे फाटकों को खोलने की आई नौबत
Advertisement
Advertisement

कोयल सहित सोन में मिलने वाली तीन सहायक नदियों के जल स्तर में अचानक आए उफान के कारण इंद्रपुरी बराज में लगभग 60 क्यूसेक पानी शनिवार को जमा हो गया। जिसमें 56 क्यूसेक पानी बराज के मॉनिटरिंग सेल ने सोन नदी में बहा दिया है। शनिवार की शाम सोन बराज के मॉनिटरिंग सेल से मिली जानकारी के अनुसार सोन के तीनों सहायक नदियों के क्षेत्र में भारी वर्षा होने के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई। जिसमें कैमूर पहाड़ी से उतर रही अवसानी सहित कुछ और नदियां भी शामिल हैं।

बराज के आधे फाटक खोल देने से जलाशय में जमा 56 हजार 329 क्यूसेक पानी अभी भी बह रहा है। जबकि सहायक नदियों से पानी का प्रवाह अभी जारी है। इंद्रपुरी बराज के प्रमंडल कार्यपालक अभियंता रविंद्र चौधरी ने बताया कि इतना पानी आने से अभी बाढ़ की स्थिति उत्पन्न नहीं होगी। क्षमता से दस गुना कम पानी का प्रवाह अभी सोन में रहा है।  पिछले साल अचानक सोन में आई बाढ़ के कारण रोहतास व झारखंड की सीमा पर सोनटीला पर लगभग नौ सौ लोग फंस गए थे।

इंद्रपुरी बराज में समय से पर्याप्त पानी

इंद्रपुरी बराज के ऊपर उत्तरप्रदेश व मध्य प्रदेश में बनाए गए बांध रिहंद तथा बाणसागर ने अभी पानी नहीं छोड़ा है। जब तक वहां से पानी नहीं छुटेगा। बाढ़ की स्थिति उत्पन्न नहीं हो सकती। इस संदर्भ में मॉनिटरिंग सेल के अभियंता सुजीत कुमार ने बताया कि इस वर्ष मॉनसून पूर्व थोड़ा पहले सहायक नदियों में बाढ़ आई है।

जिससे इंद्रपुरी बराज में समय से पर्याप्त पानी मिल गया है। जिसके कारण सोन कैनाल के नहरों में पानी की आपूर्ति आवश्यकता अनुसार समय से हो जाएगी। सहायक नदियों में अचानक बाढ़ से जल स्तर बढ़ते देख मॉनिटरिंग सेल ने नजर रखना तेज कर दिया है।

नहरों में पंद्रह हजार क्यूसेक पानी 

इंद्रपुरी के सोन बराज मॉनिटरिंग सेल के अनुसार सोन कैनाल की पश्चिमी समांतर नहर में आठ हजार, सोन उच्च स्तरीय नहर में 3250, आरा मुख्य नहर में 3200, गारा चौबे नहर में एक हजार, डुमरांव नहर में 1200, चौसा नहर में 1120, बक्सर नहर में 1500, बिहिया नहर में एक हजार क्यूसेक पानी की आपूर्ति की जा रही है।

जिससे शाहाबाद के चारों जिलों में खरीफ फसल के लिए पर्याप्त जलापूर्ति जारी है। अगर उत्तर मध्य भारत में वर्षा की स्थिति उत्पन्न हुई तो मॉनिटरिंग सेल को उम्मीद है कि मॉनसून के पहले चरण में ही बाढ़ सकती है। लेकिन फिलहाल इसके कुछ संकेत नहीं मिले हैं।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement