केस:अवैध क्लीनिक सील किए जाने पर नहीं दर्ज हुआ केस

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कानूनी सलाह लेने के नाम पर टाल रहे सिविल सर्जन, 9 सितम्बर को हुई थी महिला की मौत

सदर अस्पताल गेट के समीप संचालित अवैध आदिती क्लीनीक का भंड़ाफोड़ होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने कार्रवाई करते हुए उक्त क्लीनीक को प्रशासनिक मदद से सील कर दिया है। लेकिन अवैधक क्लीनीक के संचालक के विरूद्ध स्वास्थ्य विभाग ने अबतक एफआईआर नहीं दर्ज काराया है। जिससे से सिविल सर्जन के कार्य शैली पर सवाल उठ रहे है। जानकार बताते है कि अवैध तरिके से क्लीनीक चलाने वालों के खिलाफ इंडियन मेडिकल काउंसिल एक्ट, इंडियन मेडिसिन सेंट्रल काउंसिल एक्ट व यूनाइटेड प्रोविंसेज मेडिकल एक्ट के तहत केस दर्ज किया जाना चाहिए। लेकिन जब विभाग के आला अधिकारी ही कार्रवाइ के नाम पर टाल मटोल नीति अपना रहे है तो समझा जा सकता है मामला क्या होगा। ज्ञात हो कि गत फरवरी महीने में उक्त अवैध क्लीनक में 40 वर्षीय कौशल्या देवी नामक महिला के बच्चेदानी के आपरेशन झोला छाप चिकित्सकों ने गलत तरिके से कर दिया था। जिसके वजह से गत 09 सितम्बर को महिला की मौत मेडिकल बोर्ड के समक्ष हो गई थी। महिला की मौत के बाद विभाग ने काफी तत्परता दिखाते हुए अवैध क्लीनक को सील करने का आदेश जारी कर दिया। उस आदेश पर छह दिन बाद क्लीनीक को सील भी कर दिया गया। लेकिन संचलक के विरूद्ध एफआई आर नहीं किए जाने से अवैध क्लीनीक संचालों के हौसले बुलंद है। सूत्रों की माने तो आदिती क्लीनीक का संचालक नए अवैध क्लीनीक के लिए दूसरा मकान ढ़ूंढ़ने में लगा हुआ है। सिविल सर्जन डॉ सुधीर कुमार ने अपने एक सप्ताह पूर्व के बयान को दोहराते हुए कहा कि मामले में कानूनी जानकार से सलाह मांगी गई थी, जाे अभी प्राप्त नहीं हआ है। सलाह मिलते ही कानूनी कर्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...