स्कूलों की चिंता:सीएम उपलब्ध करवाएं विशेष आर्थिक पैकेज

सासारामएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम को भेजे जाने वाले पत्र को दिखाते एसपी वर्मा व अन्य। - Dainik Bhaskar
सीएम को भेजे जाने वाले पत्र को दिखाते एसपी वर्मा व अन्य।
  • प्रदेश महामंत्री ने मंगलवार को संत पाॅल स्कूल के ऑडिटोरियम में प्रेस कांफ्रेंस कर कहा

लॉकडाउन के कारण प्राइवेट स्कूल्स एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन से जुड़े निजी विद्यालयों एवं उनके प्रबंधको, शिक्षकों, कर्मचारियों के लिए उत्पन्न हुई परेशानियों को संज्ञान में लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विशेष आर्थिक पैकेज उपलब्ध कराना चाहिए। उक्त बातें एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री लायन डॉ एसपी वर्मा ने मंगलवार को संत पाॅल स्कूल के ऑडिटोरियम में प्रेस कांफ्रेंस कर कहा।

उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूल प्रबंधन एवं शिक्षकों की समस्याओं को सीएम गंभीरतापूर्वक लें इसके लिए सीएम को एसोसिएशन के माध्यम से एक लाख पत्र मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भेजा जाएगा। डाॅ वर्मा ने प्रेस प्रतिनिधियों से वार्तालाप के दौरान चर्चा करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी से उत्पन्न संकट के कारण मार्च महीने से लॉकडाउन एवं अभिभावकों की आर्थिक स्थिति खराब होने से सभी विद्यालयों में मासिक शिक्षण शुल्क जमा नहीं हो पा रहा है। जिसके कारण शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों को वेतन दे पाना असंभव हो गया है।

वेतन के अतिरिक्त हर विद्यालय के अन्य आवश्यक मासिक खर्चों में बिल्डिंग का लोन, किराया, बैंक के लोन की मासिक किस्त, मेंटेनेंस आधारित खर्चे, गाड़ियों की ईएमआई, बिजली का बिल के अलावा सभी व्यवसायिक टैक्स जिसमें कोई छूट नहीं दी गई है। वे सभी शामिल हैं। जिससे प्राइवेट स्कूलों के प्रबंधक,शिक्षक एवं कर्मचारी अत्यंत मानसिक तनाव में हैं। जो अब बेहद जानलेवा लगने लगा है। अगले तीन महीने क़े अंदर सभी शैक्षणिक व गैर शैक्षणिक कार्यों से जुड़े लाखों लोग बेरोजगार हो गये हैं। 

ट्रांसपोर्ट में लगने वाले विभिन्न प्रकार के टैक्स को माफ किया जाए: 
डाॅ वर्मा ने मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि ट्रांसपोर्ट में लगने वाले विभिन्न प्रकार के टैक्स को माफ किया जाए एवं ईएमआई पर लगने वाले ब्याज को नहीं लिया जाए। सरकार की ओर से कोई दिशा निर्देश न होने की वजह से अभिभावकों एवं विद्यालय के बीच तनाव उत्पन्न हो रहा हैं।

कृपया इस पर मुख्यमंत्री मार्गदर्शन प्रदान करें ताकि सभी अभिभावक समय से विद्यालय शुल्क का भुगतान कर सकें। जबकि इस विषम परिस्थिति में भी शिक्षकगण कड़ी मेहनत करके ऑनलाइन शिक्षा दे रहे हैं ताकि बिहार के नौनिहालों एवं उच्च कक्षा के विद्यार्थियों का पढ़ाई बाधित न हो। प्रेस वार्ता में बैनर के जिलाध्यक्ष रोहित वर्मा, उपाध्यक्ष सुभाष कुमार कुशवाहा, सचिव समरेंद्र कुमार, सह सचिव संग्राम कांत, महामंत्री अनिल कुमार शर्मा, सासाराम प्रखंड उपाध्यक्ष धनंजय सिंह, डिहरी प्रखंड अध्यक्ष अरविंद भारती आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...