सजा:बेटी से यौन शोषण के आरोपी पिता को 7 वर्ष सश्रम कारावास की सजा

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सगी नाबालिग बेटी से यौन शोषण करने के आरोपी कलयुगी पिता को दोषी पाते हुए अपर जिला जज छह सह विशेष न्यायाधीश पाॅक्सो अधिनियम आशुतोष कुमार की अदालत ने आरोपी को सात साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने इस मामले में सुर्यपुरा थाना क्षेत्र के जमुआड़ा निवासी रविन्द्र सिंह को उक्त सजा के अलावा दस हजार रुपये अर्थदंड की सजा भी सुनाई है। कोर्ट ने पीड़ित प्रतिकर योजना के तहत जिला विधिक सेवा प्राधिकार को पीड़ित को उचित स्वास्थ, शिक्षा एवं अन्य सुविधाओं हेतु पांच लाख रुपये की राशि देने का आदेश भी जारी किया है।

सूर्यपुरा थाना में दर्ज उक्त मामले में अभियोजन पक्ष की विशेष लोक अभियोजक शाहिना कमर ने बताया कि पीड़िता नाबालिग थी। उसके आरोपी पिता आपराधिक स्वभाव के थे। जो घर में हीं अवैध शराब का निर्माण एवं उसका व्यापार करते थे। वे अक्सर नशे में रहते थे एवं पीड़िता को पूर्व में भी मोबाइल फोन से अक्सर अश्लील तस्वीर दिखाकर उसका यौन शोषण करते थे। दर्ज प्राथमिकी के अनुसार 24 जुलाई 2019 को जब पीड़िता घर में अपने भाई के साथ अकेली थी।

तब आरोपी उसके भाई को जबरन घर से बाहर भेज कर पीड़िता के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने लगा। घटना के बाद पीड़िता का भाई जब अपनी मां को बुला कर घर लाया तब पीड़िता ने अपने पिता की पिछली एवं उस दिन के किये कुकृत्य के बारे में दोनों को बताया। जिसके बाद उक्त शर्मनाक घटना की प्राथमिकी दर्ज हुई थी। विशेष न्यायालय में उक्त मामले के ट्रायल के दौरान चिकित्सक एवं अनुसंधानकर्ता सहित कुल छह गवाहों की गवाही हुई थी। जिसके बाद कोर्ट ने उक्त आरोपी को पाॅक्सो अधिनियम की धारा 10 के तहत दोषी पाते हुए उक्त सजा सुनाई।

खबरें और भी हैं...