महाअष्टमी को पंडालों में तांता:धरती पर उतरा दिव्यलोक

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मां अम्बे की मनोहारी छवि के दर्शन के लिए पंडालों में उमड़े श्रद्धालु

दुर्गा सप्तशती के पवित्र श्लोकों के पाठ से गुंजायमान और धूप से सुगंधित वातावरण के बीच बुधवार को महाष्टमी पर विभिन्न मंदिरों में मां दुर्गा के दर्शन को ले श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। भक्ति की बहती अविरल धारा के बीच जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों की दुर्गा मंदिरों में अष्टमी को मां भवानी के आठवें रूप महागौरी का भव्य अनुष्ठान हुआ। शक्ति स्वरूपा मां दुर्गा को डलिया चढ़ाने व पूजा-अर्चना को ले जिला मुख्यालय के ताराचंडी धाम सहित अन्य मंदिरों और पंडालों में विशेषकर महिलाओं की भीड़ ज्यादा दिखी। ताराचंडी धाम सहित अन्य दुर्गा मंदिरों को आकर्षक ढंग से सजाया गया है। मंदिरों की सजावट देखते ही बनती है। प्रतिमा लाइटिंग, पंडाल आदि आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं। लोग बरबस इनकी ओर खिंचे चले आ रहे थे।

सभी पूजा स्थलों पर महिला व पुरुष पुलिस बल की तैनाती की गई है। शाम होते ही पूजा पंडालों की सजावट व लाइट से शहर की रौनक बदल गई। ताराचंडी कमेटी के महामंत्री महेंद्र साहू ने बताया कि भोर से ही दर्शन-पूजन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगनी शुरू हो गई थी। महाष्टमी के चलते ग्रामीण इलाकों से बड़ी संख्या श्रद्धालु दर्शन करने के लिए पहुंचे। भक्तों में दर्शन-पूजन और नारियल फोड़ने की होड़ मची थी। भीड़ को देखते हुए महत्वपूर्ण देवी मंदिरों में सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए थे।

आकर्षक सजावट... लोगों को लुभा रहे पंडाल, भावविभोर कर रहीं मां की प्रतिमाएं

बुधवार को अष्टमी के दिन सभी पूजा पंडालों में श्रद्धालुओं की अच्छी खासी भीड़ रही। शहर समेत ग्रामीण क्षेत्र बड़ी संख्या में श्रद्धालु मां के दर्शन को सासाराम आए। दिन भर लोगों का आना जाना लगा रहा। संध्या होते हीं श्रद्धालुओं की काफी भीड़ हो गयी। लोग पैदल घूम घूम कर पंडाल व मां का दर्शन किए। हजारों की संख्या में लोग विभिन्न पूजा पंडालों में स्थापित आकर्षक सजावट के बीच देवी देवताओं की मूर्तियों को लोग अपलक देखते हुए नजर आए। जगह-जगह खिलौना, जलेबी, चाट व प्रसाद की मौसमी दुकानें खुलने से हर ओर मेला सा दृश्य नजर आ रहा है। शहर में चारों ओर श्रद्धालुओं की भीड़ देखते ही बन रही है। बच्चे, जवान, बुजुर्ग, स्त्री, पुरुष इसमें शामिल हैं।

आज नवमी तिथि... सिद्धिदात्री की होगी उपासना, मनोकामनाएं करती हैं पूरी
नवरात्रि की नवमी तिथि को मां सिद्धिदात्री की उपासना की जाती है, जो देवी का पूर्ण स्वरुप है। इस दिन मां की उपासना करने से, सम्पूर्ण नवरात्रि की उपासना का फल मिलता है। महावनमी के दिन महासरस्वती की उपासना भी होती है, जिससे अद्भुत विद्या और बुद्धि की प्राप्ति होती है। महानवमी पर कुछ विशेष प्रयोग करने से विशेष तरह की मनोकामनाएं पूरी की जा सकती हैं। इस दिन हवन करने से नवरात्रि का फल सम्पूर्ण होता है, साथ ही अद्भुत शक्ति की प्राप्ति होती है। सिद्धिदात्री के पास अणिमा, महिमा, प्राप्ति, प्रकाम्य, गरिमा, लघिमा, ईशित्व और वशित्व यह आठ सिद्धियां हैं। घूमते घूमते लोग मिठाई व चाट खाना नहीं भूल रहे हैं। जबकि बच्चे खिलौना खरीदने से नहीं चूक रहे हैं। ​​​​​​​

भोजपुरी गायकों के देवी भजनों को खूब सुन रहे लोग
आज कल हर जगह नवरात्र की धूम है। किसी सोसाइटी में लोग गर्बा-डांडिया का आयोजन कर रहे हैं तो कहीं जागरण कर रहे हैं। ऐसे में इंटरनेट पर भी लोग खूब देवी गीत और भजन सुन रहे हैं। लेकिन इन दिनों यूट्यूब पर जिन देवी गीतों की सबसे ज्यादा चर्चा है उनमें भोजपुरी गाने सबसे आगे हैं। खासकर खेसारी लाल यादव, पवन सिंह, अक्षरा सिंह, रितेश पांडेय व अंकुश राजा द्वारा गाया गाए गए भजन लोगों को सबसे ज्यादा पसंद आ रहे हैं। वहीं चारों ओर डीजे पर बज रहे मां के भजनों से वातावरण भक्तिमय हो गया है।

इधर, नौंवी व दशमी को श्रद्धालुओं की भीड़ सबसे ज्यादा होती है। बढ़ती जा रही भीड़ को देखते हुए सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की गयी है। पूजा पंडालों के साथ ही चौक चौराहों पर दंडाधिकारियों के नेतृत्व में पुलिस बल को तैनात किया है। तीसरी लहर की आशंका के बीच लोगों की चहल-पहल बढ़ने और पंडालों में उमड़ रही हजारों हजार की भीड़ से कोरोना प्रोटोकाल टूटने लगा है। राज्य सरकार की अपील के बावजूद पूजा घूमने वाले अधिकतर लोग नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए बिना मास्क के घूम रहे हैं और शारीरिक दूरी तो दूर की बात हो गई है। महानवमी की पूजा से पहले ही जिस प्रकार लोगों की भारी भीड़ उमड़ रही है, वह संकेत है कि इस वर्ष भीड़ वाली पूजा होने जा रही है, जो राज्य सरकार, आयोजकों और चिकित्सा विशेषज्ञों की भी नींद हराम कर दी है। ​​​​​​​

खबरें और भी हैं...