मुआवजे की मांग:ओलावृष्टि से रबी के साथ दलहन को भारी नुकसान, मुआवजे की मांग की गई

सासाराम3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फसल क्षति का आंकलन किया जा रहा है : जिला कृषि पदाधिकारी

बुधवार शाम में हुई तेज बारिश और ओलावृष्टि से किसानों की कमर तोड़ दी है। खेतों में खड़ी किसानों की फसल को भारी नुकसान हुआ है। हताश किसान अब सरकार से फसल क्षति का आकलन कर मुआवजे की मांग कर रहे हैं। दरअसल, बुधवार की शाम मौसम ने अचानक करवट ली और जिले के कोचस, दावथ व दिनारा प्रखंड सहित जिले के उत्तरी हिस्से के दर्जनों गांवों मे तेज हवा और बारिश के साथ जोरदार ओलावृष्टि हुई।आलम यह था कि देखते ही देखते खेतों में और सड़क पर आसमान से बरसती बर्फ की परतें जमा हो गईं।कई ग्रामीणों ने आसमान से बरसती इस आफत को अपने कैमरे में भी कैद किया।अचानक हुई इस बेमौसम की बरसात और ओलावृष्टि से चना,सरसों,मकई,गेहूं और सब्जी की फसलों को काफी नुकसान हुआ है। प्रभावित किसानों ने सरकार से यह मांग की है कि उनके नुकसान का आकलन किया जाए और उचित मुआवजा उन्हें दिया जाए। कोचस के किसान प्रभाकर पांडेय, चुमन तिवारी, उमेश सिंह, संजय तिवारी, अनील पांडेय, चंदन सिंह, संतोष यादव आदि ने बताया कि इस बार किसानों ने गेहूं से अधिक सरसों की खेती की थी। तकरीबन डेढ़ सौ एकड़ में सरसों लगाया गया था। सरसों फुले हुए थे लेकिन यह ओलावृष्टि हमारी फसलों पर नहीं मालूम पड़ता हमारी किस्मत पर हुआ है। सब खत्म हो गया। कर्ज लेकर फसल लगाया था लेकिन सब कुछ चौपट हो गया। जिला कृषि पदाधिकारी संजय नाथ तिवारी ने बताया कि फसल क्षति का आंकलन किया जा रहा है। रिपोर्ट के आधार पर सरकार के प्रावधान के अनुरूप किसानों के क्षति की पूर्ति की जएगी।

खबरें और भी हैं...