क्रय-विक्रय अवैध:ख़ानकाह इस्टेट की वक़्फ़ संपत्ति का क्रय-विक्रय अवैध

सासारामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विभाग के आदेश पर ज़िला पदाधिकारी रोहतास ने दिया 15 दिनों में खाली कराने का आदेश

ख़ानकाह इस्टेट की वक़्फ़ संपत्ति को सासाराम निबंधन कार्यालय डीड नंबर-7511, दिनांक- 14-06-2018 एवं डीड नंबर-9793, दिनांक-13-09-2017 एवं अन्य से क्रय-विक्रय किया है। जिसे वक़्फ़ बोर्ड रेक्विजीशन आर्डर मेमो नंबर-282, 286, दिनांक-20 जनवरी 2020 के अलोक में ज़िला पदाधिकारी रोहतास के पत्रांक-388, दिनांक-21 अक्टूबर 21 के द्वारा वक़्फ़ अधिनियम 1995 की सुसंगत धारा-51 (1ए), 52, 52ए, 104 ए(2) एवं अन्य को ध्यान में रखकर वक़्फ़ संपत्ति के अवैध क्रय-विक्रय को पूर्ण रूप से अवैध घोषित कर दिया है। राज्य सरकार के सचिव अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के आदेश पर ज़िला पदाधिकारी रोहतास ने सज्जदानंशीन-सह-मोतवल्ली बुरहानउद्दीन अहमद को कब्ज़ा दिलाने का आदेश करते हुए नगर निगम आयुक्त सासाराम, अनुमंडल पदाधिकारी सासाराम एवं अंचल अधिकारी सासाराम को 15 दिनों में खाली कराने का निर्देश जारी किया हैं। साथ ही नगर थाना सासाराम में एजाज़ अहमद, मुजताबा अहमद, सैयद शाह अंसारुद्दीन अहमद एवं अन्य के विरूद्ध बोर्ड के आदेश पर प्राथमिकी एफआईआर नंबर-65/20, दिनांक-27-01-2020 अंतर्गत धारा-420, 406, 409, 467, 468, 120बी, 34 दर्ज की गई हैं। अबतक किसी अभियुक्त की ज़मानत नहीं हुई है। साथ ही वक़्फ़ अधिनियम 1995 के तहत वक़्फ़ खानकाह इस्टेट की संपत्ति का क्रय-विक्रय/नाम स्थानांतरण करना संभव नहीं एवं गैर जमानतीय अपराध है। मदरसा ख़ानकाह कबिरिया सासाराम की पूर्व तथाकथित निग्रह समिति के सदस्य सैयद शहाब उद्दीन सुहारवर्दी पिता स्व.सैयद साजिद हुसैन ससुराल निवासी मोहल्ला शाहजुमा सासाराम एवं एजाज़ अहमद वो मुजताबा अहमद दोनों पिता अहमद सईद वर्तमान निवासी दायरा, कबीरगंज, सासाराम दिये गये बयान पर सज्जदानंशीन सह मोतवल्ली बुरहानउद्दीन अहमद ने विरोध करते हुए बताया की ख़ानकाह कबिरिया (ख़ानकाह इस्टेट), सासाराम वर्ष 1717-1762 से ही वक़्फ़ है, जिसे आलम शाही वो फरोख सेरी वक़्फ़ ख़ानकाह इस्टेट के नाम से भी जाना जाता हैं।

खबरें और भी हैं...