जादू काम नहीं आएगा, टीका ही बचाएगा:जिले में बढ़ रहा संक्रमण, 72 नए पाॅजिटिव 330 पर पहुंचा एक्टिव मरीजों का आंकड़ा

सासाराम12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सासाराम रेलवे स्टेशन पर यात्री की जांच करते स्वास्थ्यकर्मी । - Dainik Bhaskar
सासाराम रेलवे स्टेशन पर यात्री की जांच करते स्वास्थ्यकर्मी ।
  • बच्चाें काे काेराेना से सुरक्षा कवच देने के लिए वैक्सीन की मैजिक डाेज जरूर लगवाएं
  • संक्रमण की मौजूदा रफ्तार अगले एक-दो सप्ताह तक यूं​​​​​​​ ही जारी रही तो सैकड़ों लोग आइसोलेशन में कैद होने को विवश हो जाएंगे

जिले में ठंड के साथ कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। कोरोना संक्रमण दिनों- दिन भयावह होते जा रहा है। शुक्रवार को जिले में 72 पाॅजिटिव मिलने से सनसनी फैल गई है। एक-एक दिन में इतने संक्रमित मिलने से स्वास्थ्य विभाग के सकते में आ गया है। जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी रितु राज ने बताया कि टेस्टिंग व वैक्सीनेशन को तेज कर दिया गया है। यही कारण है कि आरटीपीसीआर, ट्रुनॉट व एंटीजन कीट के माध्यम से पिछले 24 घंटे में 6361 लोगों की सैंपल संग्रहित कर जांच की गई, जिसमें 72 का रिपोर्ट पाॅजिटिव मिला है। इस दौरान रेलवे स्टेशनों पर 264 यात्रियों की जांच की गई है जिसमें सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई आई है। सिविल सर्जन डॉ अखिलेश कुमार ने बताया कि कोरोना के तीसरी लहर से निपटने के लिए जिलाधिकारी के नेतृत्व में पूरी चौकसी के साथ टीम काम कर रही है। जिला प्रशासन के सहयोग से स्वास्थ्य विभाग किसी भी विषम परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

पूर्व के संक्रमित 58 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग, सभी सक्रिय मरीजों का होम आइसोलेशन में चल रहा इलाज

सावधानी ही बचाएगा संक्रमण से : सिविल सर्जन

सिविल सर्जन ने बताया कि पिछले दो बार की लहर ने यह स्पष्ट कर दिया है कि खुद को इससे बचाने के लिए बहुत सावधान रहने की जरूरत है। संक्रमण की चेन को तोड़ने की जरूरी है कि कोरोना गाइडलाइन का पूरी चौकसी से पालन किया जाए। सभी लोग मास्क पहनकर रहें। बिना बहुत जरूरी काम के घर से बाहर न निकलें। मास्क पहनें। सफाई पर ध्यान रखें। भीड़ में जाने से बचें। सर्दी-जुकाम इसके प्रारंभिक लक्षणों में एक है। लिहाजा, ऐसे लोग खुद को औरों से अलग करें ताकि संभावित संक्रमण घर के दूसरे लोगों को बीमार नहीं कर दें।

होम आइसोलेशन में करते रहे आक्सीजन जांच

सिविल सर्जन ने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने के दौरान मास्क लगाकर रहना जरूरी है, जिससे घर के अन्य सदस्य प्रभावित न हों। घरों से बाहर न निकलें। घरों में सबसे दूरी बनाकर अलग रहें। पल्स ऑक्सीमीटर साथ रखें और ऑक्सीजन लेवल की जानकारी लेते रहना चाहिए। ऑक्सीजन लेवल 95 से नीचे या सेहत में उतारचढ़ाव या गड़बड़ी हो तो इसकी सूचना तत्काल टोल फ्री नंबर 1950 या जारी किए गए अन्य नम्बरों पर देनी चाहिए। टैबलेट एजीथ्रोमायसिन 500 एमजी 1 रोज, टैबलेट जेंकोविट 1 रोज, टैबलेट विटामिन सी 1 रोज, बुखार आने पर टैबलेट पैरासिटमऑल 500 एमजी दिन में 3 बार तथा टैब आइवर्मेक्टिन 12 एमजी लगातार तीन दिन तक अवश्य लें।

होम आइसोलेशन में ये बरतें सावधानी
थर्मामीटर से अपने शरीर के तापमान को भी नापते रहें। अपने मोबाइल में होम आइसोलेशन और आरोग्य सेतु एप जरूर डाउनलोड करें। प्रोटीन का सेवन करें। मिर्च और मशाला से दूर रहें। सादा एवं संतुलित भोजन करें। आयुर्वेदिक काढ़ा का भी प्रयोग करते रहें। होम आइसोलेशन में 17 दिन तक रहना है। कमरे में 10 दिन तक रहें। 10 दिन के बाद 7 दिन तक कोविड नियमों का पालन करते हुये रूम के बाहर टहल सकते हैं। हाथों को समय-समय पर धुलते रहें। बुजुर्गों व बच्चों को घर से बाहर न जाने दें।

खबरें और भी हैं...