पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

संक्रमण जारी:नौ लोगों की मौत, 24 घंटे में 179 मरीज मिले, सक्रिय मरीजों की संख्या 2099

सासारामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल के कोविड वार्ड को सेनेटाइज करता कर्मी। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल के कोविड वार्ड को सेनेटाइज करता कर्मी।
  • 138 मरीज स्वस्थ हुए, पर नए संक्रमितों की संख्या रही ठीक होने वालों से अधिक

कोरोना संक्रमण के नए केस बढ़ने के साथ ही मौत की संख्या में भी इजाफा होता जा रहा है। जिले में बीते 24 घंटे में 179 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। इसके अलावा नौ संक्रमित मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई। वहीं 138 मरीज स्वस्थ हुए है। इसके साथ कुल संक्रमित एक्टिव मरीजों की संख्या 2099 पर पहुंच गई। जिला स्वास्थ समिति के अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी रितु राज ने बताया कि जिले में अब तक कुल संक्रमितों की संख्या 12264 हो गई है। मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 177 पर पहुंच गया है। संक्रमित हुए मरीजों में से 9983 मरीज स्वस्थ होकर घर वापस लौट गए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटे में 1407 लोगों का जात सैंपल लिया गया। जिसमें एंटीजन से 447 आरटी पीसीआर से 917 तथा टू नेट के माध्यम से 20 सैम्पलों की जांच की गई। जबकि 22 लोगों की जांच निजी तौर पर हुई है। जिले में एक्टिव 2099 मामलों में से 197 अन्य जिलों के मरीज है जिन्हें यहां इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है। बताया कि सक्रिय मरीजों में से 165 का इलाज कोविड-19 सेंटर ने किया जा रहा है। सदर अस्पताल सासाराम में 93 तथा एनएमसीएच जमुहार में 72 कोविड मरीजों का इलाज चल रहा है।

जबकि 1934 मरीजों को होम आइसोलेशन में रख कर इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है। प्रभारी सिविल सर्जन डॉ केएन तिवारी ने बताया कि 24 घंटे के भीतर मिले नए पॉजिटिव मरीजों को आइसोलेट करने की प्रक्रिया जारी है। मेडिकल टीम के सदस्य नए संक्रमितों के परिजनों व उनके संपर्क में आए लोगो का सैंपल कलेक्ट कर रहे हैं। तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के खतरे को देखते हुए जिला प्रशासन तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जागरूकता के साथ सरकार के गाइडलाइन का पालन करने के लिए आम लोगों से अपील किया जा रहा है। इस महामारी से निपटने के लिए आम लोगों का सहयोग काफी महत्वपूर्ण है।

राहत: पैथोलॉजिकल जांच की निर्धारित रेट में सुधार
कोविड संक्रमण महामारी के दौरान जिले में पैथोलॉजिकल जांच केंद्रों द्वारा मनमानी पैसा लिए जाने की शिकायत पर डीएम धर्मेंद्र कुमार ने संज्ञान लेते हुए दो दिन जांच का दर निर्धारित किया था। लेकिन निर्धारित दर में सुधार की मांग पर गुरुवार को पुनः सुधार कर नया रेट चार्ट तैयार किया गया है। इसको लेकर सिविल सर्जन कार्यालय में प्रभारी सिविल सर्जन डॉ केएन तिवारी एवं एडीएम लालबाबू सिंह के साथ सासाराम के सभी पैथोलॉजी जांच केंद्रों के संचालकों की बैठक हुई। बैठक में निर्धारित जांच रेट पर ही जांच करने के आदेश दिए गए।

एचआरसीटी जांच के लिए पैथोलॉजी संचालकों द्वारा अप्रैल के शुरुआती दिनों में 2500 से 3500 रुपए लिए जाते थे, लेकिन कोरोना महामारी में बढ़ी लोगो की परेशानी को देखते हुए स्वास्थ विभाग द्वारा उस दर की पहले 5500 और अब सुधार के बाद 4500 कर दिया गया है। जबकि सिटी हेड जॉच के लिए पहले 1400 से 1600 पैथोलॉजी संचालक लेते थें। अब स्वास्थ विभाग ने उसे 2200 निर्धारित कर राहत पहुंचाने की पहल की है।

लापरवाही से संक्रमण बढ़ने की आशंका: सासाराम में कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं हो रहा है। लोग बिना डरे बाजार में भीड़ में घूम रहे हैं। मास्क भी नहीं पहननते। शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया जाता है। राज्य सरकार एवं स्थानीय प्रशासन के निर्देशों का भी पालन नहीं होता। दवा दुकानों पर काफी भीड़ रहती है। अस्पतालों में कोरोना के काफी मरीज भर्ती हैं। इसके बावजूद लोग गंभीर नहीं है। दुकानों और मॉल आदि में भी कोरोना गाइडलाइन का खुलेआम उल्लंघन हो रहा है। इस लापरवाही की वजह से कोरोना का प्रसार और बढ़ने की आशंका है। अब भी समय है, संभलिए, नहीं हो कोरोना का प्रसार नहीं रुकेगा।

खबरें और भी हैं...