तैयारी:वनवासी मतदाताओं पर जिउतिया पर्व को ले होने वाली असुविधाओं का रखा ख्याल

सासाराम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेहल मतदान केंद्र - Dainik Bhaskar
रेहल मतदान केंद्र
  • पिपरडीह का रेहल और रोहतासगढ़ का धनसा में पहले से किया था बूथ

राज्य निर्वाचन आयोग ने कैमूर पहाड़ी के उपर बसे वनवासियों के रोहतासगढ़ और पीपरडीह पंचायत के मतदाताओं खासकर महिलाओं को जीवित्पुत्रिका पर्व पर होने वाली असुविधा को देख एक और बड़ा निर्णय लिया है। पहले से पीपरडीह पंचायत का मतदान केंद्र रेहल और रोहतासगढ़ पंचायत का मतदान केंद्र धनसा में प्रस्तावित था। अब रोहतासगढ़ पंचायत के दो गांव कछुअर और चाकडीह जो धनसा से 15 किलोमीटर दूर थे उनके लिए अमझोर के पीपीसीएल हाई स्कूल में अलग मतदान केंद्र बनाया गया है।

जो इन गांवों से मात्र सात किलोमीटर दूर है। रोहतास डीएम धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि कैमूर पहाड़ी पर बसे वनवासियों की बड़ी आबादी को पंचायत चुनाव में मतदान के लिए 25 किलोमीटर पहाड़ी के नीचे आना था। साथ में 29 सितंबर को रोहतास और नौहट्‌टा में होने वाले मतदान के दिन ही माताओं द्वारा अपने पुत्रों के दीर्घायु होने के लिए रखे गए कठिन उपवास व्रत जीवित्पुत्रिका का पालन भी करना था। जिसमें 25 किलोमीटर नीचे उतरकर महिलाएं मतदान नहीं कर सकती थी।

इन दोनों पंचायतों के मतदान केंद्र पहले 25 से 40 किलोमीटर दूर पहाड़ी के नीचे किया गया था स्थापित
पंचायत चुनाव की अधिसूचना आते ही राज्य निर्वाचन आयोग ने इन दोनों पंचायतों के मतदान केंद्रों को कैमूर पहाड़ी के नीचे बौलिया और अन्य जगह पर स्थांनातरित कर दिया था। जिसकी दूरी पंचायत के कुछ गांवों से 40 किलोमीटर हो जा रही थी। जहां आकर मतदान करना किसी भी तरह संभव नहीं था। खासकर चुनाव के दिन जीवित्पुत्रिका व्रत होने के कारण महिलाओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता। जिसको लेकर स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने आंदोलन भी खड़ा किया। यहा तक की दोनों पंचायतों में विभिन्न पदों पर चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों ने सामुहिक रूप से नामांकन वापसी का प्रस्ताव भी प्रशासन के पास दिया था। तब रोहतास डीएम धर्मेंद्र कुमार ने डेहरी एसडीएम और अन्य अधिकारियों को पूरा सर्वे कर एक रिपोर्ट मांगा।

19 मतदान केंद्रों के चुनाव होंगें तीन जगह
राज्य निर्वाचन आयोग के तरफ से आए निर्देश के आलोक में पीपरडीह और रोहतासगढ़ पंचायतों के कुल 19 मतदान केंद्रों के चुनाव रेहल, धनसा और पीपीसीएल अमझोर में होगा। इसमें से दस मतदान केंद्र रेहल में बनाए गए हैं। जो पिपरडीह पंचायत के विभिन्न गांवों के होंगे। वहीं रोहतासगढ़ पंचायत केंद्र के आठ मतदान केंद्र मध्य विद्यालय धनसा में बनाए गए हैं। एक मतदान केंद्र कछुअर व चाकडीह के मतदाताओं के लिए पीपीसीएल हाई स्कूल अमझोर में अनुमोदित किया गया है। ये सभी मतदान केंद्र दोनों ही पंचायतों के मतदाताओं के लिए कम दूरी पर स्थापित हैं। रोहतास डीएम ने बताया कि इन मतदान केंद्रों पर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंधों के बीच मतदान कर्मियों को इवीएम मशीन और बैलेट बॉक्स के साथ रवाना कर दिया गया है। जहां से मतदान संपन्न होते ही सुरक्षा कर्मियों के साथ वापस भी लाए जाएगें।​​​​​​​

23 मतगणना कर्मियों पर होगी कार्रवाई
प्रथम चरण पंचायत चुनाव में सासाराम तकिया बाजार समिति में स्थापित मतगणना केंद्र पर ड्यूटी नहीं करने वाले 23 मतगणना कर्मियों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के लिए रोहतास डीएम धर्मेंद्र कुमार ने राज्य निर्वाचन आयोग को अनुशंसा भेजी है। इनमें से दावथ प्रखंड के लिए तीन काउंटिंग सुपरवाइजर, पांच काउंटिंग अस्सिटेंट और तीन माइक्रो ऑब्जर्बर मतगणना केंद्र पर ड्यूटी करने नहीं पहुंचे थे। वहीं संझौली प्रखंड के लिए कराए गए मतदान की गणना में एक काउंटिंग सुपरवाइजर, एक काउंटिंग अस्सिटेंट और तीन माइक्रो ऑब्जर्बर ड्यूटी से गायब थे। रोहतास डीएम धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि इन सभी 23 मतगणना कर्मियों के उपर सुसंगत धाराओं के तहत अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग को लिखकर भेजा गया है। साथ में इनसे शोकॉज भी पूछा गया है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...