पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दुस्साहस:पत्नी से चेन छीनने का विरोध करने पर डेहरी में उपसरपंच को लुटेरों ने मार दी सिर में गोली, मौत

सासाराम22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अकोढ़ीगोला में युवक की हत्या की घटना के बाद बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
अकोढ़ीगोला में युवक की हत्या की घटना के बाद बिलखते परिजन।
  • डेहरी में पत्नी का इलाज कराने के बाद सासाराम बाइक से जा रहे थे, शराब पी रहे बदमाशों ने रोका तो भाग रहे थे

मुफस्सिल थाना क्षेत्र के सुपा बिगहा के पास अपराधियों ने एक व्यक्ति को गोली मार दी जिससे घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान सासाराम मुफस्सिल थाना क्षेत्र के बांसा गांव निवासी रामनाथ शर्मा के रूप में की गई है। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक उप-सरपंच है। घटना के बारे में बताया जाता है कि मृतक रामनाथ शर्मा तिलौथू अपनी बहन के यहां से अपने गांव सासाराम के बांसा बाइक से जा रहा था। वे पत्नी को डेहरी इलाज के लिए लाए थे और लौट रहे थे इसी बीच सुपा बिगहा के समीप शराब पी रहे अपराधियों ने रोका और गहने छीनने लगे। भागने लगे तो अपराधी बाइक ओवरटेक कर रोके और मृतक के पत्नी के गले से चेन छीनने का प्रयास करने लगे। इसी बीच पति द्वारा विरोध किया गया और उसी के क्रम में अपराधियों ने रामनाथ शर्मा के सिर में गोली मार दी। उप सरपंच की मौत के बाद अपराधी फरार हो गए हैं।

अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कई जगह नाकेबंदी
घटना की सूचना के बाद डेहरी मुफस्सिल थाना की पुलिस सहित आला अधिकारी पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। और मामले की छानबीन में जुट गई है। वहीं पुलिस ने बताया कि मामले की जांच-पड़ताल की जा रही है और घटना में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कई जगह नाकेबंदी की गयी है। पुलिस अधीक्षक आशीष भारती भी मौके पर पहुंच अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई अभियान में जुट गए गए हैं।

गाड़ी खड़ी करने के विवाद में युवक की पीट-पीटकर हत्या, सड़क जाम

थाना क्षेत्र के अकोढ़ी गांव में पिकअप वैन खड़ा करने को लेकर दो दिन पहले हुई मारपीट में घायल 35 वर्षीय त्रिलोकी पाल की इलाज के दौरान मौत के बाद जमकर बवाल हुआ। रविवार की देर रात त्रिलोकी का शव जैसे ही अकोढ़ीगोला पहुंचा की सैकड़ों की संख्या में लोग अकोढ़ीगोला आयरकोठा पथ को जाम कर दिए। यह जाम सुबह आठ बजे तक रहा। जहां पहुंचे अधिकारियों ने आक्रोशित को समझा बुझाकर जाम हटाने का प्रयास किया। जब बात नहीं बनी तो अनुमंडल मुख्यालय डेहरी से भी अधिकारियों को आना पड़ा। थानाध्यक्ष प्रभात कुमार ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए आश्वासन देने के बाद आक्रोश कुछ थमा। फिर शव को ले जाया गया। इधर पुलिस टीम ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी। हालांकि गिरफ्तारी के डर से घटना के आरोपी मुन्ना चंद्रवंशी, सूरज कुमार,, मीरा कुमारी, शिवदयाल चंद्रवंशी, भूरी देवी गांव छोड़कर फरार थे। पुलिस ने एक आरोपी पप्पू को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

पिकअप वैन खड़ा करने के लिए हुआ था विवाद:
यह घटना अकोढ़ी गांव में दो दिन पूर्व उस समय घटी जब पिकअप वैन खड़ा करने को लेकर त्रिलोकी पाल विनोद पाल व शंकर पाल को आरोपियों ने लाठी डंडे से बुरी तरह पीट दिया था। पिटाई में घायल तीनों लोगों को इलाज के लिए ट्रामा सेंटर बनारस ले जाना पड़ा। जहां त्रिलोकी की मौत हो गई। इधर इस घटना को लेकर त्रिलोकी की पत्नी सुनीता देवी ने थाने में छह लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई। उस समय तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई थी। त्रिलोकी की मौत के बाद जब सड़क जाम हुआ और आक्रोशित लोगों ने जब बवाल काटना शुरू किया तो एक आरोपी की गिरफ्तारी हो गई।

पहले से भी था विवाद: स्थानीय पुलिस ने बताया कि अकोढ़ी गांव में इन दोनों परिवारों के बीच पहले से विवाद था। जिसको लेकर कई बार पुलिस के पास शिकायतें पहुंची थी। पुलिस ने दोनों पक्ष को समझा बुझाकर थाना से वापस घर भेजा था। अंत में दरवाजे के आगे पिकअप वैन खड़ा करने को लेकर दोनों पक्ष आमने सामने हुए और इतनी बड़ी वारदात हो गई। घटना में घायल विनोद पाल और शंकर पाल का इलाज अभी भी अस्पताल में चल रहा है। इधर त्रिलोकी पाल के शव का परिजनों ने पुलिस की देख रेख में अंतिम संस्कार कर दिया। क्योंकि घटना के बाद से गांव में तनाव व्याप्त है।


खबरें और भी हैं...