किसान चौपाल:कम लागत में अधिक मुनाफा के किसान को दिए टिप्स

अगरेर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सासाराम के माेकर गांव में किसान चौपाल लगाकर दी गईं कई जानकारियां

सासाराम प्रखंड की मोकर पंचायत के माेकर गांव में शनिवार आयोजित किसान चौपाल में किसानों को कृषि से योजनाओं की जानकारी दी गयी। साथ ही किसानों को आमदनी बढ़ाने के उपायों सहित जीरो टिलेज पद्धति व जैविक खेती पर जोर दिया गया। प्रखंड कृषि पदाधिकारी सत्येंद्र नारायण सिंह ने कहा कि जीरो टिलेज के माध्यम से खेती करने से बुआई के लिए जुताई की आवश्यकता नहीं पड़ती है। फसल का उत्पादन भी अधिक होता है। कृषि पदाधिकारी ने किसानों को फसलों की उन्नत खेती के लिये मिट्टी जांच, वर्मी कंपोस्ट उत्पादन तकनीक, समेकित कृषि प्रणाली, जीरो टिलेज मशीन से गेंहू की बुआई, जल जीवन हरियाली, मसूर, चना, मटर, राई, तोरी, आलू, फूलगोभी की खेती की जानकारी दी। मौके पर प्रखंड तकनीकी प्रबंधक अजय कुमार सिंह ने फसल अवशेष प्रबंधन के तरीके के बारे में एवं वेस्ट डिकंपोजर के उपयोग की विधि बतायी गयी। साथ ही सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया गया। चैपाल में नवनिर्वाचीत मुखिया हरेंद्र चंद्रवंशी, सरपंच अख्तर अंसारी, किसान महेंद्र सिंह, हरिद्वार सिंह, नथुनी सिंह, बैजन्ती देवी, आरती देवी, नंदू कुशवाहा, अमित कुमार, नंद जी सिंह, धनंजय पांडेय, नित्यानंद पांडेय आदि मौजूद थे। मौसम आधारित खेती अपनाने की सलाह कृषि समन्वयक दीपक कुमार सिंह ने कहा कि यहां के किसान मेहनती हैं, परंतु सही दिशा और सही तकनीक के साथ काम नहीं करने का खामियाजा आमदनी प्रभावित कर भुगतना पड़ता है। तकनीकी प्रबंधक ने मौसम आधारित खेती को अपने वार्षिक खेती में समाहित करने की सलाह दी।

खबरें और भी हैं...