भाई दूज:पवित्र रिश्ते का प्रतीक भाई दूज मनाया गया

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दीपावली के दूसरे दिन मनाया जाने वाला त्योहार भाई दूज पर जिले में काफी धूम देखने को मिला। यह त्योहार भाई-बहन के प्यार को सुदृढ़ और प्रगाढ़ करता है। बहन-भाई के पवित्र रिश्ते का प्रतीक भाई दूज पर महिलाओं ने भाई की लंबी आयु की कामना की। कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की द्वितीया को मनाया जाने वाला यह त्योहार अपने आप में बेहद खास होता है।

इस दिन महिलाएं अपने भाई के लिये व्रत रखती हैं और उनके माथे पर तिलक लगाकर लंबी आयु की कामना करती हैं। दीपावली महापर्व का आखिरी त्योहार माना जाने वाला भाई दूज पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन महिलाएं भाई के लिये गीत भी गाती हैं। भाई भी अपनी बहन की रक्षा का वादा करते हुए बहनों को गिफ्ट देते हैं।

कई स्थानों पर महिलाएं एक जगह इकट्ठा होकर गीत गाते हुए माहौल को भक्तिपूर्ण बनाती दिखी। साथ ही गाय के गोबर से बने गोधन के अलावा यम और यमी तथा बिच्छू की आकृति बनाया गया। जिसे पूजा के अंत में सभी महिलाएं एक साथ मिलकर इसकी कुटाई की। जिले के सभी जगहों पर महिलाओं ने भाई-बहन के अटूट प्रेम से जुड़े इस पर्व को मनाया और भाईयों की उम्र लम्बी हो इसकी कामना की।

खबरें और भी हैं...