पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महापर्व:घाटों पर उमड़ा आस्था का संगम

घाटकुसुम्भा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सूर्य को अ‌र्घ्य दे मांगी पुत्रों की लंबी उम्र
सूर्य देव की अराधना का सबसे बड़ा पर्व छठ घाटकुसुम्भा में धूमधाम से मनाया गया। शुक्रवार को दोपहर बाद घर-घर से सिर पर सूप-दउरा लेकर निकले लोग, पीछे से निर्जला व्रतधारी गीत गातीं महिलाओं तालाब-पोखरों व नदी किनारे बने पूजा स्थलों तक पहुंचीं। घाटों पर कोरोना को लेकर सरकार के द्वारा जारी गाइडलाइन के बावजूद मेले जैसा दृश्य रहा। बच्चों ने पटाखे भी जलाए। घाटों पर अपार भीड़ को देखते हुए प्रशासन की ओर से सुरक्षा के चौकस इंतजाम किए गये थे। हर जगह पुलिस कर्मी अराजक तत्वों पर नजर रखे हुए थे। पूजा के दौरान अंचलाधिकारी निखत प्रवीण घाटों पर सुरक्षा व अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लेते रहे। उल्लासपूर्ण माहौल में व्रतधारी महिलाओं ने डूबते सूर्य देवता को अ‌र्घ्य दिया और घर के लिए चले। प्रखंड के हरोहर नदी किनारे गदबदिया, अकरपुर, घाटकुसुम्भा, मुरवरीया, सुजावलपुर, कोयला, बाउंघाट, पानापुर, प्राणपुर, आलापुर नदी किनारे छठ घाटों में हजारों की संख्या में श्रद्धालु पूजा-अर्चना करने पहुंचे।

सामाजिक संस्थाओं ने छठ घाट पर किए गए व्यापक इंतजाम : शनिवार की सुबह उगते सूर्य को अ‌र्घ्य को देकर महिलाएं व्रत का समापन किया। इस दौरान सामाजिक संस्थाओं की तरफ से घाटों पर साफ-सफाई व प्रकाश की व्यवस्था की गई थी। घाटकुसुम्भा सहित कई स्थानों पर सुबह व्रतधारी महिलाओं के लिए चाय व नाश्ते का भी प्रबंध किया गया था। अ‌र्घ्य देने के बाद नदी में प्रवाहित किए दीपों का विहंगम दृश्य देखते ही बन रहा था। दोपहर बाद से ही शहर से लेकर ग्रामीण इलाके के श्रद्धालु सिर पर पूजा सामग्री लेकर नदी की तरफ चल पड़े। शाम होते-होते हजारों श्रद्धालु इकट्ठा हुए।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले रुके हुए और अटके हुए काम पूरा करने का उत्तम समय है। चतुराई और विवेक से काम लेना स्थितियों को आपके पक्ष में करेगा। साथ ही संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी चिंता का भी निवारण होगा...

और पढ़ें