कोरोना इफेक्ट:कोरोना के कारण फिर शादी-समारोह पर लगा ग्रहण

शेखपुरा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खांड पर स्थित होटल सिद्धार्थ मैरिज हॉल। - Dainik Bhaskar
खांड पर स्थित होटल सिद्धार्थ मैरिज हॉल।
  • 15 जनवरी से शुरू हो जाएंगे मांगलिक कार्य, लेकिन कोरोना के नए वेरिएंट ने बढ़ाई चिंता

जिले में इस वर्ष 15 जनवरी से शहनाइयों की गूंज शुरू हो जाएगी, लेकिन एक बार फिर शादियों पर कोरोना का संकट छा गया है। कोरोना संक्रमण बढ़ने के साथ ही जिले में भी लगातार एक्टिव केस बढ़ रहे हैं। ऐसे में सरकार की ओर से लागू कोविड की नई गाइडलाइन के अनुसार शादी ब्याह के आयोजन में 50 से अधिक लोग शामिल नहीं हो सकते हैं। इस नई गाइडलाइन से उन परिवारों की मुश्किल बढ़ गई है जिनके घरों में शादी है। साथ ही मैरिज गार्डन संचालकों पर भी संकट आ गया है, क्योंकि अब लोग पहले की गई बुकिंग कैंसिल करा रहे हैं।

इसका बड़ा असर इससे जुड़े कारोबारियों पर पड़ा है। पंडित जी से लेकर मैरिज गार्डन संचालक, टेंट कारोबारी, कैमरामैन, कैटरर, फूलों की सज्जा करने वाले और बैंड वाले सभी परेशानी में हैं। सबसे ज्यादा असर जनवरी माह में पड़ा है, जिस दिन लगन जोरदार है। लोग इतने डरे हुए हैं कि फरवरी की बुकिंग भी कैंसिल करवा रहे हैं। गौरतलब है कि बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बिहार सरकार के द्वारा 21 जनवरी तक कई प्रकार की बंदिशें लागू की गई है। जिसमें शादी समारोह से लेकर सभी प्रकार के होने वाले धार्मिक आयोजन में मात्र 50% क्षमता एवं अधिकतम 50 व्यक्ति की परिसीमा निर्धारित की गई है। इस दौरान कोविड गाइडलाइन पालन करना भी अनिवार्य होगा। इसके साथ ही 3 दिन पूर्व विवाह या अन्य किसी प्रकार के समारोह आयोजित करने की सूचना स्थानीय थाना को देने का निर्देश दिया है।
मैरेज हॉल संचालक, बिजली बिल व अन्य करों में रियायत देने की कर रहे मांग
जिले के विभिन्न मैरेज हॉल एवं होटल के संचालक बताते है कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर जारी गाइडलाइन के अनुसार लोगों की मजबूरी है कि 50 लोगों में ही शादी करना होगी। जिन लोगों ने बुकिंग कराई है। उन लोगों के बीच सामंजस्य की स्थिति बनी हुई है। वही, 21 जनवरी के बाद कैसी स्थिति रहती है इस पर काफी कुछ डिपेंड करेगा। जिसको लेकर कई लोगों ने बुकिंग रद्द करा लिया है जबकि कई लोगों ने अभी बुकिंग रद्द नहीं कराई है। लेकिन रात 8 बजे के बाद बंद करने का आदेश है। जिससे होटल एवं रेस्टोरेन्ट कारोबार काफी प्रभावित हुआ है।व हीं, पिछले कोविड काल में व्यवसाय से जुड़े लोगों को कितना नुकसान हुआ इसका अनुमान लगा पाना मुश्किल है। एक बार फिर से वही स्थिति है। जिससे आर्थिक रूप से कारोबार और पीछे चले जाएंगा। इसलिए सरकार हमारे जैसे लोगों दर्जनों मैरेज हॉल संचालकों के बिजली बिल और अन्य टैक्सेज में रियायत दे।

खबरें और भी हैं...