पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भीड़-भाड़:कोरोना के कारण इस बार प्रतिमा विसर्जन में भी नहीं दिखी भीड़-भाड़

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दुर्गापूजा में न महिलाओं ने गाए विदाई के गीत न हुई सिंदूर खेली

कोरोना ने त्योहार की खुशियां पूरी तरह छीन ली है। दशहरा किस तरह बीत गया पता ही नही चला। सार्वजनिक स्थलों पर इस बार पूजा पंडाल नही बने।पूरी सादगी से माता रानी का दरवार सजा। मेला भी नही लगा। कोरोना के साथ साथ चुनावी माहौल का असर दिखा। प्रतिमा स्थापना से लेकर विसर्जन तक सिर्फ धार्मिक परंपरा का निर्वहन हुआ। बिना किसी ढोल बाजे और जुलूस के ही दशमी को मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन कर दिया गया। सड़को पर न तो नाचते गाते युवाओं की टोलियां दिखी और न ही विदाई गीत गाती महिलाओं का झुंड दिखा। बड़े स्तर पर सिन्दूर खेली भी नही हुआ। महिला श्रद्धालुओं ने विदाई में भी सिर्फ धार्मिक परंपरा का ही निर्वाहन किया। पूर्व में महिलाएं विदाई गीत गाती और अबीर गुलाल उड़ाती हुई विसर्जन जुलूस में शामिल होकर शहर और गांव की सीमा तक मां दुर्गा को विदाई देने जाती थीं। इस बार श्रद्धालुओं को यह खूब खली।

घाटों पर भी कम श्रद्धालु की पहुंचे
पिछले साल तक प्रतिमा विसर्जन को लेकर नदी और तालाब की घाटों पर काफी भीड़ भाड़ रहती थी। मेला जैसा दृश्य रहता था। इस बार घाटों पर भी भीड़ भाड़ नही दिखी। विभिन्न पूजा समिति के गिने चुने लोगों ने ही प्रतिमा का विसर्जन कर दिया। प्रशासन के दिशा निर्देश पर इस बार प्रतिमाओं की साइज भी छोटी थी। जिसके कारण छोटे छोटे वाहन पर ही इन्हें विसर्जन के लिए ले जाया गया। विसर्जन के लिए भी काफी कम लोगों की जरूरत पड़ी। हालांकि विसर्जन जुलूस नही निकाले जाने के बावजूद प्रशासनिक मुस्तैदी दिखी। खासकर संवेदनशील जगहों पर काफी सतर्कता बरती जा रही थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- रचनात्मक तथा धार्मिक क्रियाकलापों के प्रति रुझान रहेगा। किसी मित्र की मुसीबत के समय में आप उसका सहयोग करेंगे, जिससे आपको आत्मिक खुशी प्राप्त होगी। चुनौतियों को स्वीकार करना आपके लिए उन्नति के...

और पढ़ें