पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कचरे के ढेर पर शहर:आठ दिनाें से नहीं हो रहा कचरे का उठाव, बीमारी फैलने की आशंका, हर मोहल्ला बना डंपिंग प्वाइंट

शेखपुरा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शेखपुरा के चांदनी पर पसरी गंदगी। - Dainik Bhaskar
शेखपुरा के चांदनी पर पसरी गंदगी।
  • मंगलवार को नप गेट में तालाबंदी कर हुआ विरोध प्रदर्शन, सड़क पर फैला है जगह-जगह कचरा
  • दुर्गंध ही दुर्गंध: लोगों का अब घर में रहना हुआ मुिश्कल, प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की

सफाई कर्मी के द्वारा से पिछले 8 दिनों से अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी है। जिसके कारण जिले के दोनों नगर परिषद कचरे का शहर बन गया है। वहीं, मोहल्लों में भी सफाई कर्मचारी नहीं पहुंच रहे। इसके कारण डंपिंग प्वाइंट पर से कूड़े का उठाव नहीं हो रहा है। मोहल्ले व गलियों के साथ-साथ शहर के मुख्य सड़कों पर भी जहां-तहां कूड़ा-कचरा का ढ़ेर पड़ा हुआ है। वार्ड के हर मोहल्ले में जगह-जगह नया कचरा डंपिंग प्वांइट बन गया है। इस कारण स्थिति बेहद नारकीय हो गई है। 8 दिनों से सड़कों और मोहल्लों के गलियों में जमा कचरा सड़ गया है और अब उससे तेज दुर्गंध निकल रहा है जिससे अब लोगां को मच्छर जनित व बीमारियां फैलने का डर सताने लगा है। वहीं, मंगलवार को शेखपुरा सफाई कर्मी के द्वारा गेट पर तालाबंदी कर जमकर बवाल कटा। इसके साथ ही नगर प्रशासन के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। जिसको लेकर स्थानीय पुलिस का भी तैनात किया गया। गौरतलब है कि वैकल्पिक व्यवस्था के द्वारा नगर परिषद के विभिन्न स्थानों पर सफाई का कार्य किया जा रहा था। लेकिन हड़ताली कर्मियों के द्वारा विरोध किए जाने के कारण वैकल्पिक व्यवस्था के द्वारा भी सफाई का कार्य बंद कर दिया गया है। जिसके कारण जगह-जगह कूड़े कचरे का ढेर बढ़ता जा रहा है। जो धीरे-धीरे सड़कों पर पहले शुरू हो गई है।

कर्मियों का हठ:अपनी 12 सूत्री मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं कर्मी
12 सूत्री मांगो को लेकर 8 वें दिन भी नगर परिषद में हड़ताल जारी रही। जिसके कारण सड़क पर कचरा जमा हो गया है। दैनिक, संविदा, ठेका, कमीशन, आउटसोर्सिंग पर कार्यरत सफाई व अन्य कर्मी की नियमितीकरण, समान काम के लिये समान वेतन व न्यूनतम 18000 से 21000 रुपये का भुगतान, सामाजिक सुरक्षा एवं स्थायी कर्मचारियों को 5 वां, 6 ठा व 7 वां वेतन पुनरीक्षण तथा एसीपी लाभ आदि 12 सूत्री मांगों की पूर्ति को लेकर हड़ताल जारी रखी।

सफाईकर्मियों की हड़ताल से बरबीघा के कई मोहल्ले नरक में तब्दील
बरबीघा नगर परिषद के सफाई कर्मियों के द्वारा चौथे दिन में भी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहने की वजह से बरबीघा शहरी क्षेत्र के कई वार्ड एवं मोहल्ला नरक में तब्दील होने लगा है। मोहल्ले के मुख्य सड़क और गली महज 4 दिनों के अंदर जगह-जगह कूड़े का ढ़ेर लगा है। नगर परिषद के सफाई कर्मियों ने मंगलवार को भी झाड़ू, बेलचे, कुदाल एवं बैनर के साथ जुलूस निकालकर शहर में रोष प्रदर्शन किया और अपनी मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की। जुलूस का नेतृत्व कर रहे मनोज मलिक, अशोक मालिक, राजीव मालिक ने कहा कि जब तक मांगों को पूरा करने का आश्वासन नहीं देती है तब तक हम लोग हड़ताल पर बने रहेंगे ।

सभापति ने नगरवासियों से शहर को साफ- सुथरा रखने की अपील की
सभापति रौशन कुमार ने सफाई कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने के बाद शहर में उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए नगर वासियों को यत्र -तत्र कूड़े -कचरे नहीं फेंकने और गंदगी को वैसे ही स्थानों में ही फेंकने की अपील की, जिससे शहर साफ -सुथरा दिखे। क्योंकि बरसात के इस मौसम में इस ओर ध्यान नहीं देंगे तो इसका खामियाजा भी शहर के लोगों को ही भुगतना पड़ेगा। क्योंकि अगर घरों और दुकानों के आगे गंदगी का अंबार लग जाएगा तो वहां पर रहने वाले लोगों को ही सबसे अधिक परेशानियां होगी। इसलिए कचरे को जमा कर रखें और निर्धारित स्थानो पर ही डालें। उन्होंने यह भी कहा कि बहुत जल्द ही पहल कर हड़ताल समाप्त कराए जाएंगे।

खबरें और भी हैं...