पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिंदी दिवस:देश के लोगों को आपस में जोड़ती है हिंदी भाषा

शेखपुरा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
समारोह में शामिल साईं स्कूल के विद्यार्थी व शिक्षकगण। - Dainik Bhaskar
समारोह में शामिल साईं स्कूल के विद्यार्थी व शिक्षकगण।
  • रामाधीन महाविद्यालय व साईं स्कूल में मनाया गया, हिंदी दिवस पर विचार रखे गए

शेखपुरा के रामाधीन महाविद्यालय में हिंदी दिवस बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस दौरान छात्राओं ने हिंदी भाषा पर अपने विचार रखे। कार्यक्रम का शुभारंभ प्राचार्य डॉ.दिवाकर कुमार ने किया। उन्होंने कहा कि हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है। हिंदी को बढ़ावा देने के लिए सभी को मिलकर कार्य करना चाहिए। हिंदी भाषा एक संपर्क भाषा है, जो हम लोगों को माला की तरह आपस में जोड़ने का कार्य करती है। प्रधानाचार्य डॉ.दिवाकर ने हिंदी की महत्ता की चर्चा करते हुए कहा कि 14 सितम्बर 1953 को हिंदी को आधिकारिक तौर पर राष्ट्रीय हिंदी दिवस घोषित किया गया था। हिंदी के शुरुआती वर्णमाला से ही वैज्ञानिकता का बोध हो जाता है। महाविद्यालय के हिंदी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ.योगेंद्र कुमार ने हिंदी भाषा को सहजता के साथ व्यवहार में लाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि हिंदी सिर्फ भाषा की खूबसूरती ही नहीं बल्कि मातृभाषा के प्रति अपने दायित्वों का बोध भी कराता है। महात्मा गांधी ने भी सन 1918 में हिंदी के उत्थान के लिए प्रयास किये थे। मौके पर राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डॉ अमित कुमार ने भाषा की विविधता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हिंदी भाषा को उत्कृष्ट बनाने में हम सभी को प्रयास करते रहना चाहिए। इस मौके पर प्रोफेसर डॉ.नवलता, डॉ. शशि पांडेय, डॉ.रकीब अंसारी, डॉ.अनुपम किशोर, प्रो त्रिपुरारी, राजन कुमार वर्मा सहित कॉलेज के छात्र-छात्राएं व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।
साई पब्लिक स्कूल में रही हिन्दी दिवस की धूम
साई पब्लिक स्कूल, ओनामा बरबीघा में 06 से 14 सितम्बर तक हिंदी सप्ताह के रूप में मनाया गया। इसी क्रम में मंगलवार को हिंदी दिवस का बच्चों के द्वारा धूमधाम से आयोजन कर इस सप्ताह का समापन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत स्वामी विवेकानंद और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की तस्वीरों पर माल्यार्पण कर की गई। कार्यक्रम में संस्थान निदेशक अंजेश कुमार, सह निदेशक रमेश कुमार ने हिंदी दिवस के अवसर पर बच्चों को हिंदी के बारे में, आभासी तकनीकों के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की। उन्होंने कहा कि हिंदी हमारी मातृभाषा है और हमें इसे राष्ट्रभाषा का दर्जा दिलाने का संकल्प लेना चाहिए। समारोह में बी.एड. शैक्षणिक विभाग से सर्वेश कुमार, रविन्द्र कुमार, राकेश गिरी, पिंकी कुमारी तथा उमाशंकर विद्यार्थी ,विद्यालय शैक्षणिक संस्थान से प्रीति कुमारी, आशुतोष आनंद, कोमल भारती, उदय कुमार, रंजय कुमार, मनीष कुमार, ओमकार कुमार, पुनिता कुमारी, जितेंद्र कुमार और मोनी कुमारी तथा विद्यालय सिंडिकेट से अमन, राजाराम और रघुवीर साथ ही कंप्यूटर संभाग से विकास कुमार की गरिमामय उपस्थिति रही। हिंदी दिवस के अवसर पर संस्थान के सभी सदस्यों के लिए काव्य सरिता शीर्षक के अधीन हिंदी कवि सम्मेलन का आयोजन किया।

खबरें और भी हैं...