हिंदी पखवाड़ा:हिन्दी पूरे राष्ट्र को एक करती है

शेखपुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सैनिक स्कूल नालंदा में हिंदी पखवाड़ा के समापन के अवसर पर कवि-दरबार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत विद्यालय के प्राचार्य कर्नल तमोजीत विश्वास ने दीप प्रज्जवलित कर की। सैनिक स्कूल नालंदा में हिंदी पखवाड़ा का आयोजन 14 से 28 सितम्बर के बीच किया गया। कार्यक्रम में छात्रों, शिक्षकों एवं प्रशासनिक कर्मियों के लिए विभिन्न साहित्यिक प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। पखवारा का समापन मंगलवार की शाम के आयोजित किया गया। कवि दरबार में विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने विभिन्न कवियों की वेश-भूषा एवं भाव-भंगिमा में काव्यपाठ किया।

सैन्य छात्र देवांशु मिश्र ने ओजपूर्ण कविता परशुराम की प्रतीक्षा का पाठ किया। सैन्य छात्र आर्यन ने विद्यापति के गोसाउनी गीत सुनाकर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। हास्य-कवि शैल चतुर्वेदी की कविताओं से सैन्य-छात्र प्रांजल ने लोगों को खूब गुदगुदाया। विद्यालय के प्राचार्य कर्नल विश्वास ने कहा कि हिंदी इस देश की राज-भाषा है और इसके उन्नति के बिना देश की उन्नति की कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने महात्मा गांधी का उल्लेख करते हुए कहा कि राष्ट्रपिता ने भी कहा था कि हिंदी ही एकमात्र भाषा है जो पूरे राष्ट्र को एक-सूत्र में पिरो सकती है। इसलिए हिंदी भाषा के संरक्षण एवं संबर्द्धन करना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। इसके लिए यह आवश्यक है कि हिंदी भाषा को हम अधिक से अधिक अपने व्यवहार में लायें। कर्नल विश्वास ने विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया।

अनुच्छेद लेखन में डा. प्रमोद कुमार, स्नातकोत्तर शिक्षक जीव विज्ञान एवं श्रुतलेख प्रतियोगिता में अपर श्रेणी लिपिक कल्याण सुन्दरम को प्रथम पुरस्कार, नारा लेखन प्रतियोगिता में सैन्य-छात्र अनुराग कुमार को प्रथम, सैन्य छात्र सुमित कुमार को द्वितीय तथा प्रिन्स कुमार को तृतीय पुरस्कार देकर सम्मानित किया। साथ ही कवि दरबार के प्रतिभागी समस्त सैन्य छात्रों को उपहार प्रदान किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के उप प्राचार्य बिंग कमांडर पीएस गुजराल, प्रशासनिक अधिकारी मेजर अजय चंद आदि उपस्थित थे। धन्यवाद ज्ञापन अहिन्दीभाषी राज्य मेघालय अधिवास के सैन्य छात्र आदि वंदन मौथो ने किया।

खबरें और भी हैं...