याचिका:एक तरफ मरीजों की जान जा रही तो दूसरी ओर टेक्नीशियन नहीं रहने से धूल फांक रहे तीन वेंटिलेटर

शेखपुरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अधिवक्ता संघ के महासचिव ने डीएम व सीएम को लिखा पत्र, जल्द चालू नहीं हुई तो जनहित याचिका

कोरोना वायरस के दूसरी लहर की मार ऐसी पड़ी है कि बिहार का हर जिला बुरी तरह से प्रभावित है। स्थिति काफी भयावह बन गई है। वर्तमान में बीमार पड़ रहे लोगों को सबसे अधिक जरूरत वेंटिलेटर की पड़ रही है। ऐसे में आपको यह जानकार हैरानी होगी कि राज्य के जिला अस्पताल में सरकार ने वेंटिलेटर उपलब्ध करा रखा है, लेकिन उसे चलाने वाला कोई टेक्नीशियन नहीं है। इस कारण कोरोना मरीजों के इलाज में बड़ी समस्या उत्पन्न हो गई है। इस मामले पर जिला विधिज्ञ संघ के महासचिव विनोद कुमार सिंह ने डीएम एवं सीएम को चालू कराने को लेकर पत्र लिखा है और जनता को राहत पहुंचाने के लिए जल्द से जल्द टेक्नीशियन उपलब्ध कराने की मांग की है। उन्होंने कहा कि जल्द वेंटिलेटर सुविधा बहाल नहीं किया गया तो जनहित याचिका के माध्यम से माननीय उच्च न्यायलय के समक्ष इस मामले को उठाया जायेगा। गौरतलब है कि सदर अस्‍पताल में 3 वेंटिलेटर मशीन पड़ी हुई है और वह काफी दिनों से धूल फांक रही है। ऐसा इसलिए हो रहा है कि उसे चलाने वाला कोई टेक्नीशियन वहां नहीं है। सरकारी स्तर पर इस मामले में बड़ी लापरवाही बरती गई।

एक साल से बंद पड़ी हैं तीनों वेंटिलेटर मशीन
डीसीएचसी में ही वेंटिलेटर की मशीन भी धूल फांक रही है। इस मशीन को वहां आए एक साल हो गए। इस बारे में खुद सिविल सर्जन डॉ.कृष्ण मुरारी प्रसाद सिंह बता रहे हैं। लेकिन, उस मशीन को भी वहां ऑपरेट करने वाला कोई नहीं है। सिविल सर्जन ने कहा कि ऑपरेटर की तलाश की जा रही है। जल्द ही उसे चालू करा दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...