विश्व स्तनपान सप्ताह:बच्चों को डिब्बा व बोतल के दूध से मुक्त करने की दिलायी शपथ, स्तनपान के फायदे बताए गए

शेखपुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आशा कार्यकर्ता को शपथ दिलाते प्रशिक्षक। - Dainik Bhaskar
आशा कार्यकर्ता को शपथ दिलाते प्रशिक्षक।
  • 1 अगस्त से सभी आशा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है

शहर के गिरिहिंडा चौक स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जा रहा है। जिसमें लगातार 1 अगस्त से सभी आशा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है। वहीं, शनिवार को प्रशिक्षण के क्रम में सभी आशा कार्यकर्ताओं को अस्पताल परिसर में डिब्बा व बोतल मुक्त करने की शपथ दिलायी गयी। इस बाबत प्रखंड सामुदायिक उत्प्रेरक सह प्रशिक्षक प्रभाष पांडे ने बताया कि प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ.अशोक कुमार सिंह के नेतृत्व में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में विश्व स्तनपान सप्ताह के तहत आशा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रशिक्षण प्राप्त करने के पश्चात आशा कार्यकर्ता गांव-गांव जाकर धात्री महिलाओं के साथ बैठक कर स्तनपान की विधि एवं उसके फायदे के बारे में लोगों को जानकारी देंगे।

कम से कम 2 साल तक स्तनपान कराना बच्चों के लिए फायदे के साथ-साथ माँ को भी फायदा होता है

6 महीने तक सिर्फ स्तनपान एवं कम से कम 2 साल तक स्तनपान कराना बच्चों के लिए फायदे के साथ-साथ माँ को भी फायदा होता है, बच्चों को स्तनपान कराने से मां को स्तन कैंसर नहीं होता है आदि विषयों पर जागरूक करेंगे। उन्होंने कहा कि 6 माह तक बच्चों 24 घंटे में 6 से 8 बार पेशाब होना ठीक समझा जाता है कि बच्चा का सही ढंग से स्तनपान कर रहा है। बच्चों को मां का दूध ही सर्वोत्तम आहार है। इस अवसर पर प्रबंधक धर्मवीर चौधरी, सर्वेश्वर कुमार सहित सभी आशा कार्यकर्ता एवं स्वास्थ्य कर्मी ने स्तनपान सप्ताह पर अस्पताल परिसर में डिब्बा व बोतल में दूध मुक्त करने एवं महिलाओं को स्तनपान करने के लिए जागरूक करने का भी शपथ ली।

खबरें और भी हैं...