अमृत महोत्सव:स्कूली बच्चों के बीच पोस्टकार्ड लेखन प्रतियोगिता

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पोस्टकार्ड। - Dainik Bhaskar
पोस्टकार्ड।
  • माई विजन फॉर इंडिया 2047 में सुझाव देने के लिए विभिन्न स्कूलों ने 5200 खरीदा पोस्टकार्ड

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत डाक विभाग, स्कूल शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की ओर से एक दिसंबर से पोस्टकार्ड लेखन अभियान चलाया जा रहा है, जो 20 दिसंबर तक चलेगा। हालांकि जिले में यह अभियान काफी धीमी गति से चल रही है। जिसको लेकर जिला शिक्षा पदाधिकारी रंजीत पासवान ने सभी विद्यालय के प्रधानाध्यापक एवं प्रभारी प्रधानध्यपक को कार्य में तेज़ी लाने का निर्देश दिया है। दरअसल, भारत सरकार के शिक्षा एवं संचार मंत्रालय के तत्वावधान में आजादी के अमृत महोत्सव के तहत डाकघर की ओर से स्कूली बच्चों के बीच पोस्टकार्ड लेखन अभियान चला जा रहा है। इसमें बेहतर प्रदर्शन करने वाले बच्चों को विभाग की ओर से पुरस्कृत और सम्मानित भी किया जाएगा। पोस्टकार्ड लेखन अभियान में कक्षा 4 से 12 तक के बच्चे शामिल हो सकते हैं।

इस अभियान के लिए दो विषय का चुनाव किया गया है। डीईओ ने बताया कि 50 पैसे की दर से स्कूली बच्चों को पोस्टकार्ड उपलब्ध कराया जाएगा। इसमें बच्चे “स्वतंत्रता सेनानी अनसुनी कहानी” और “2047 में आजाद भारत” विषय पर लेख लिख सकते हैं। इन पोस्टकार्ड को प्रधानमंत्री के पते पर भेजा जाएगा। अभियान के लिए 1 दिसंबर से 20 दिसंबर तक का समय निर्धारित किया गया है। 10 उतम सुझाव वाले पोस्ट कार्ड को वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा। डीईओ ने सभी प्रधानाध्यापक एवं प्रभारी प्रधानाध्यापक एक से 20 दिसंबर तक अपने-अपने स्कूलों में पोस्ट कार्ड लेखन अभियान आयोजित करेंगे और सभी प्रविष्टियों की जांच करने के बाद सर्वोत्तम विचारों वाले अधिकतम 10 पोस्टकार्ड की संक्षिप्त सूची तैयार करेंगे।

छात्रों की 10 प्रविष्टियों को शॉर्टलिस्ट किया जाएगा

इन उत्तम सुझाव वाले 10 पोस्ट कार्डों को स्कैन करके पोर्टल पर संबंधित स्कूल द्वारा अपलोड किया जाएगा। राज्य के अंतर्गत आने वाला स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग पोर्टल पर 10 प्रविष्टियों को शॉर्टलिस्ट किया जायेगा। वहीं, सहायक डाक अधीक्षक नीरज चौधरी ने बताया कि अब विभिन्न विद्यालयों द्वारा कुल 5200 पोस्टकार्ड की खरीदगी की गई है। साथ ही जानकारी दी कि ऐसी प्रतियोगिताओं से बच्चों की रचनात्मकता काफी बढ़ती है। उनकी लेखन शैली में काफी विकास होता है।

खबरें और भी हैं...