पहल:शेखपुरा जिले को मिले 25 रेमडेसिवीर वायल

शेखपुरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • चिकित्सकों की निगरानी में दी जानी है इंजेक्शन

कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा हुआ है। वहीं, इससे बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये जा रहे टीकाकरण को अहम माना गया है। बावजूद कई लोग ऐसे हैं जो संक्रमण से बचाव के लिए दवाओं व इंजेक्शन की जानकारी लेकर अपना इलाज खुद ही कर रहे हैं। यह गलत है। ऐसे लोगों में रेमडेसिविर का नाम भी प्रचलित है। लोग संक्रमण से बचने के लिए इस दवा को बहुत अधिक जरूरी मान रहे हैं। लेकिन उन्हें इसके सही इस्तेमाल की जानकारी होनी चाहिए। ध्यान रहे कि वर्तमान में कोविड संक्रमण से बचाव के लिए आवश्यक टीकाकरण किया जा रहा है। जहां तक रेमडेसिविर की बात है तो इसका इस्तेमाल विशेष परिस्थिति में ही किया जाता है। अन्यथा यह घातक सिद्ध हो सकता है।

सीएस ने बताया कि रेमडेसिविर एंटी वायरल दवा को हेपेटाइटिस सी के इलाज के लिए बनाया गया था। लेकिन इबोला वायरस काल में तथा श्वसन संबंधी गंभीर समस्या वाले मामले में इस इंजेक्शन का उपयोग बढ़ा था। बीते साल कोरोना की शुरुआत के साथ ही इस इंजेक्शन को संक्रमण के इलाज के लिए शुरुआती दवाओं में शामिल किया गया था। वर्तमान में संक्रमण की संख्या में इजाफा के कारण इस इंजेक्शन की मांग बढ़ी है। सीएम ने बताया कि बिहार सरकार के द्वारा फिलहाल 25 रेमडेसिविर वायल उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर एक एंटी वायरल ड्रग है।

खबरें और भी हैं...