सरपंच की पुत्री हुई घायल:मेहूंस की महिला सरपंच के घर पर पथराव

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले के मेहूंस पंचायत के सरपंच पद पर पिछले 15 वर्षों से काबिज महिला सरपंच रागिनी देवी के घर बीती रात दबंगों ने पथराव किया। जिसमें उनकी बेटी छोटी एवं अंजली के हाथ में ईंट लगने से गंभीर चोट आई, जिनका इलाज स्थानीय चिकित्सक द्वारा किया गया। विदित हो कि पिछले 15 सालों से रागिनी देवी मेहूंस पंचायत की सरपंच है एवं इस चुनाव में भी उन्होंने 2200 मतों से चुनाव जीतकर पुनः सरपंच पद पर कब्जा जमाया है।

बीती रात सरपंच के घर पर हुए पथराव की वजह से दहशत का माहौल है। इस बाबत सरपंच रागिनी देवी ने बताया कि बीती रात मैं अपने दो बेटियों स्मृति व अंजली एवं दो छोटे नातियों के साथ घर पर थी। रात्रि में करीब 9:15 के बाद हम लोग खाने के बाद सोने की तैयारी कर रहे थे। इस दरम्यान मेरे पिछले कार्यकाल से सचिव रही उर्मिला चतुर्वेदी अपने पति रंजीत सिंह, बहु शालिनी देवी एवं दो बेटे राहुल व रोहित सिंह के साथ मेरे घर पर आकर फिर से सचिव बनाने को लेकर दबाव बनाया। मेरे द्वारा इंकार किये जाने पर उन लोगों ने गाली-गलौज करना शुरू कर दिया।

इस दौरान उन्होंने बदतमीजी भरे लहजे में मेरी बेटियों को भी धमकियां दी। इस दौरान हम लोग दरवाजा बंद कर घर के छत पर चले आये। बताया जाता है कि रात को भी सचिव पद को लेकर बहस हुई थी। इसी खुन्नस में पथराव किया गया है।

सरपंच की पुत्री हुई घायल

बहस के दौरान ही सभी आरोपियों ने हमारे घर पर पथराव करना शुरू कर दिया। घर पर हुए हमले में फेंके गए ईट से मेरी छोटी बेटी अंजली कुमारी के हाथों पर लगी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गयी। हालांकि इस मामले की जानकारी मेहूंस थाने की दी गयी। किन्तु पुलिस प्रशासन द्वारा इस मामले में अब तक कोई जांच पड़ताल नही की गई है। वही महिला सरपंच की बेटी स्मृति कुमारी ने बताया कि सारा मामला सचिव बनाये जाने को लेकर है। रंजीत सिंह अपनी राजनीतिक पहुंच व पैरवी से अपनी पत्नी उर्मिला चतुर्वेदी को गलत तरीके से सचिव बनाये है। जिसका विरोध हम लोग अक्सर करते आ रहे है।

खबरें और भी हैं...