वसूली:हर सांस का हिसाब मांग रहे अस्पताल ₹30000 जमा के बाद मरीज की इंट्री

शेखपुरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निजी क्लीनिक में इलाजरत मरीज़। - Dainik Bhaskar
निजी क्लीनिक में इलाजरत मरीज़।
  • प्राइवेट हॉस्पिटल में ऑक्सीजन के बाद मोटी रकम वसूली

प्राइवेट हॉस्पिटल में मरीजों की हर सांस का सौदा हो रहा है। डॉक्टर हर सांस का हिसाब मांग रहे हैं। ऑक्सीजन और इंजेक्शन की किल्लत का हवाला देकर आखिरी सांस तक मरीज से हिसाब करते रह रहे हैं। प्राइवेट हॉस्पिटल की मनमानी के खिलाफ आवाज उठती रही है लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। दरअसल, सरकारी अस्पताल में ऑक्सीजन समेत अन्य सुविधाएं हैं, पर बेड नहीं। काेराेना मरीज के परिजन सरकारी अस्पतालों की दौड़ लगा रहे हैं। इसका निजी अस्पताल नाजायज फायदा उठा रहे हैं। हालत यह है कि बिना ऑक्सीजन ही मरीज को एडमिट कर ले रहे हैं। इनके दलाल भी शहर में घूम रहे हैं। हाल में जिनकी काेराेना से माैत हुई उनके परिजनों ने बताया कि निजी अस्पतालाें में लूट मची है। प्राइवेट हॉस्पिटल में गेट पर पैसा जमा कराने के बाद भी एंट्री मिल रही है। वह भी कोई छोटा अमाउंट नहीं बड़ी धनराशि जमा करनी पड़ रही है।
ऑक्सीजन की कमी दिखाकर कर रहे सौदा : प्राइवेट अस्पताल नगद भुगतान का दबाव बनाने के साथ कुछ दवाओं और ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के नाम पर मरीजों को डिस्चार्ज करने की धमकी दी जा रही है। इसके बाद मनमाना पैसा वसूला जा रहा है।

खबरें और भी हैं...