पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दुर्गापूजा:चौक-चौराहे और पंडालों पर तीसरी आंख से रखी जा रही नजर,मजिस्ट्रेट व जवान कर रहे निगरानी

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसपी ने किसी भी अफवाह से लोगों को बचने की अपील की, परेशानी हो तो दें पुलिस को सूचना

सिटी रिपोर्टर | शेखपुराबेफिक्र होकर मेला का आनंद उठाएं। दुर्गा पूजा महोत्सव को लेकर जिला प्रशासन ने सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की है। पर्याप्त मात्रा में मजिस्ट्रेटों के साथ पुलिस बलों की तैनाती की गई है। इसके साथ ही शहर के विभिन्न पूजा पंडालों एवं चौक-चौराहों पर निगरानी रखने के लिए जिला प्रशासन द्वारा तीसरी आंख का सहारा लिया जा रहा है। जिसके तहत सीसीटीवी के जरिए मेला में आने जाने वालों की हरकत पर नजर रखी जा रही है। जबकि 200 महिला पुलिस जवानों को लगाया गया है। महिलाओं की सुरक्षा के मद्देनजर पूजा-पंडालों और भीड़-भाड़ वाले जगहों पर महिला पुलिस बल की तैनाती की गई है। इसके साथ ही सादी वर्दी में भी पुलिस की प्रतिनियुक्ति विभिन्न स्थानों पर की गई है।

जबकि सभी थाना क्षेत्रों में पुलिस गश्ती बढ़ाई गई है। शहर के भीड़-भाड़ वाले स्थानों में बाइक के जरिए पुलिस गश्ती करेगी। जबकि विभिन्न थाना क्षेत्रों में भी पुलिस गश्त तेज कर दी गई है। इसके साथ ही समाहरणालय में जिला नियंत्रण कक्ष बनाया गया है। जहां किसी भी तरह की अप्रिय वारदात को लेकर पुलिस को तुरंत सूचित करने की अपील लोगों से की गई है। इस बाबत एसपी दयाशंकर ने लोगों से किसी भी अफवाह से बचने की अपील की है। उन्होंने कहा की किसी भी हालात में कानून को अपने हाथ में न लें।

पंडालों में पट खुलते ही मां दुर्गा के दर्शन के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु
जिले भर में नवरात्र की सप्तमी के दिन शुक्रवार की देर शाम को मां दुर्गा की प्रतिमाओं के पट विधि-विधान एवं वैदिक मंत्रोचार के बीच खुले। इस दौरान पंडाल मां दुर्गा के जयकारे से गूंज उठा। माँ की आरती वंदना से जिले में सारा वातावरण भक्ति रस में सराबोर हो गया है। पंडालों में पट खुलने के साथ ही जगत जननी माँ दुर्गा के दर्शन को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने लगी है। चहुँओर भक्ति मय वातावरण बना हुआ है। जिले भर में अलग-अलग जगहों पर स्थापित पूजा-पंडालों में माँ के दर्शन को श्रद्धालु आने लगे। रंग -बिरंगे झालरों व आकर्षक पांडालों के बीच शहर की शोभा देखती ही बन रही है। शाम को कृत्रिम रोशनियों के बीच पांडालों की अद्भुत छटा लोगों को बरबस ही लुभा रही है।

कोरोना के कारण नवरात्र और दशहरे का उत्साह इस बार पड़ा फीका
कोरोना संक्रमण के कारण दशहरा के वृहद आयोजन पर रोक के कारण दशहरे का उत्साह फीका दिखने लगा है। मंदिर से लेकर पूजा पंडालों में एक माह पूर्व से चलने वाली तैयारी पूरी तरह बंद है। इस बार आयोजन सीमित करने एवं कोरोना संक्रमण का विशेष ध्यान रखने को लेकर अधिकांश जगहों पर महज सांकेतिक पूजा का आयोजन होगा। कोरोना के कारण इस बार त्योहारों का आयोजन नहीं हो पाया है, जबकि दशहरे की वीरानगी लोगों को अब से खलने लगी है। जहां महीनों पूर्व से तैयारी शुरू हो जाती थी वैसे मंदिर प्रांगण में वीरानी छाई हुई है। स्वर्णकार दुर्गा पूजा समिति के अध्यक्ष अनिल कुमार वर्मा ने बताया कि गांव में करीब तीन सौ वर्ष पुरानी दुर्गा मंदिर से लोगों की असीम आस्था जुड़ी है। इस मंदिर में काफी संख्या में लोगों की भीड़ जुटती है।

बेलभरनी पूजा कर मां को दिया गया था निमंत्रण
पट खुलने के पूर्व गुरूवार को बेलभरनी पूजा के साथ मां को निमंत्रण दिया गया। पूजा के तहत मां बेलभरनी को षष्ठी के दिन रात्रि पहर में पूजा स्थल पर स्थापित होने के लिए निमंत्रित किया जाता है। इसके अनुसार तालाब व नदी के समीप स्थित बेल के पौधे में विधि-विधान के साथ मंत्रोच्चारण किया जाता है। उसके बाद उसके डालियों में कपड़ा बांधकर पंडित लौट जाते हैं।इसके बाद निमंत्रण स्वीकार होने पर सप्तमी को पौ फटते ही दो बेल की डाली को तोड़कर माता बेलभरनी को स्नान कराया जाता है। फिर डोली में बिठाकर ढोल-नगाड़े के साथ विधिवत पूजा स्थान पर लाकर स्थापित किया जाता है। उसके बाद ही मां की पट खुलती है और भक्तों को मां का दर्शन हो पाता है।

दुकानों में छायी मंदी, नहीं पहुंच रहे है खरीददार
कोरोना को लेकर गृह मंत्री के द्वारा जारी गाइड लाइन के कारण इस बार जिले के बाजार मंदी के दौर से गुजर रहा है। बाजार में खरीदारों की कमी है। कपड़े रेडीमेड के छोटे बड़े शोरूम और दुकान पर एक दो ग्राहक का आना जाना होता है। कमोवेश यही हाल यहां के मॉल का भी है। भारी छूट का बोर्ड चिपका रहने के बावजूद भी ग्राहक इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। दुकानदार बताते है कि पिछले 7 महीनों से जारी कोरोना संक्रमण काल ने आम तथा खास लोगों को आर्थिक कमजोर कर दिया है। दूसरी ओर केंद्र की नई आर्थिक नीति से व्यापारियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, कपड़ा का दाम भी बढ़ गया है। बरबीघा किसान और मजदूर का बाजार है। किसान की उपज जहां खेत में पड़ी है। वहीं, मजदूर पिछले 7 महीनों से बेरोजगार बैठे हैं। इधर दशहरा को लेकर खाद्य एवं किराना दुकानदारों की बिक्री में कुछ तेजी देखने को मिल रहा है। स्थानीय लोगों ने बताया कि इस बार का दशहरा पूजा लोग आवश्यक जरूरतों की पूरी कर, सादे ढंग से मनाने को बाध्य है।

नवमी व दशमी मनाने की हो रही तैयारी
नवरात्र पर नवमी व दशमी को लेकर चल रहे असमंजस पर पंडित बालाकांत बताते हैं कि इस साल अष्टमी तिथि का प्रारंभ 23 अक्टूबर को 6 बजकर 57 मिनट से हीं प्रारंभ हो गया है जो अगले दिन 24 अक्टूबर (शनिवार) को सुबह 06 बजकर 58 मिनट तक रहेगा। ऐसे में इस साल महा अष्टमी का व्रत 23 व 24 अक्टूबर को भी लोग मना रहे हैं। जबकि महानवमी तिथि का प्रारंभ 24 अक्टूबर (शनिवार) को सुबह 06 बजकर 58 से हीं हो रहा है, जो अगले दिन 25 अक्टूबर रविवार को सुबह 07 बजकर 41 मिनट तक रहेगी। ऐसे में महानवमी का व्रत करनेवाले 24 अक्टूबर को हीं व्रत रखें। जिन घरों में महानवमी की पूजा होती है। इस तरह शारदीय नवरात्रि में कन्या पूजन या कुमारी पूजा, महाष्टमी और महानवमी दोनों ही तिथियों को किया जाएगा। जबकि दशमी तिथि का प्रारंभ 25 अक्टूबर को सुबह 07 बजकर 41 मिनट से हो रहा है, जो 26 अक्टूबर को सुबह 09 बजे तक है। ऐसे में इस साल विजयादशमी का पर्व 25 अक्टूबर यानी रविवार को मनाया जाएगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें