पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऐसे में कैसे होगा धान:जिले में 9 हजार एमटी यूरिया की मांग, मिले हैं मात्र 04 हजार, किसान परेशान

शेखपुरा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुबह 3 बजे से देर शाम तक यूरिया के लिए लाइन में लग रहे है किसान

किसानों की आमदनी दोगुनी हो या न हो, लेकिन फिलहाल यूरिया के किल्लत ने उनकी परेशानी कई गुना बढ़ा कर रख दिया है। जिले के विभिन्न प्रखंडों में धान की रोपाई का कार्य अब समाप्त हो चुकी है। वहीं किसानों के द्वारा निकाय के कारण खत्म होते ही यूरिया खाद के छिड़काव करने का कार्य शुरू कर दिया गया है। लेकिन पिछले एक माह से यूरिया की किल्लत है। जिसके कारण किसान परेशान रह रहे है। हालांकि दो दिन पहले शनिवार को जिले में यूरिया और डीएपी खाद प्राप्त हुआ है। इससे किसानों में उम्मीद जगी। जिसको लेकर सोमवार को मुख्यालय के आसपास के दर्जनों गांव के किसान सुबह 03 बजे से ही बिस्कोमान भवन केंद्र पर खाद लेने के लिए इंतजार कर रहे हैं। 10 से 12 घंटे कतार में लगकर किसान खाद ले रहे हैं।

सोमवार की सुबह से ही करीब 500 से अधिक किसान दल्लू चौक के समीप स्थित बिस्कोमान कार्यालय पहुंच गए। ताकि काउंटर खुलने पर खाद मिल जाए, लेकिन जिस तरह से समय बीत रही थी उसी प्रकार किसानो की भी भीड़ बढ़ती जा रही थी। साथ ही कतार और लंबी होती जा रही थी। वहीं खाद लेने की लिए किसान का धक्का-मुक्की दिनभर चलता रहा। इस दौरान कोई व्यवस्था नहीं रहने के कारण जमकर कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ती रही। इस संबंध में कृषि पदाधिकारी शिवदत्त सिन्हा ने बताया कि जिले में 9000 मीट्रिक टन यूरिया की जरूरत है। लेकिन सरकार के द्वारा अब तक मात्र 4000 मीेट्रिक टन यूरिया ही उपलब्ध कराया गया है। जिसके कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई है।

खाद लेने के लिए भोर से ही उमड़ी किसानों की भीड़, नहीं मिलने पर हंगामा

जिले में यहां हैं खाद के स्टॉक
कृषि पदाधिकारी ने बताया शेखपुरा में दल्लू चौक पर स्थित बिस्कोमान भवन केंद्र में 2200, हथियावां बिस्कोमान भवन केंद्र में 1500, आदित्य स्वावलंबी सहकारी समिति कटरा चौक को 600, बरबीघा में मिशन चौक के समीप स्थित स्वावलंबी सहकारिता समिति में 800, चौधरी खाद भंडार में 800, अरियरी में दीपक ट्रेडर्स धमौल में 800 बोरी यूरिया है।

सुरक्षा व्यवस्था करने की मांग की
खाद वितरण कर रहे बिस्कोमान कर्मी प्रत्यूष कुमार ने बताया कि खाद वितरण के दौरान किसानों के द्वारा जमकर हंगामा मचाया गया। जिसको लेकर कृषि पदाधिकारी एवं शेखपुरा थाना को सूचित किया गया और सुरक्षा व्यवस्था की मांग की गई। लेकिन उनके द्वारा किसी प्रकार की सुरक्षा की व्यवस्था उपलब्ध नहीं की गई है, जिस कारण दिक्कत हो रही है।

खाद वितरण के दौरान किसानों का हंगामा, शटर गिराकर कर्मी हुए फरार
पिछले 1 महीने से खाद की किल्लत होने के कारण सोमवार को खाद उपलब्ध होते ही बड़ी संख्या में किसान बिस्कोमान भवन केंद्र पर पहुंचे। जहां बिस्कोमान के कर्मी के द्वारा सुबह में खाद का वितरण का कार्य शुरू किया गया। लेकिन अधिक भीड़ रहने के कारण खाद वितरण करने में परेशानी हो रही थी। जिसको लेकर किसानों ने हंगामा किया।। जिसके कारण खाद वितरण कर रहे हैं कर्मचारी काउंटर छोड़कर फरार हो गए। वहीं, हंगामा शांत नहीं होने पर खाद वितरण काउंटर को बंद कर दिया।

खाद नहीं मिलने से किसान परेशान, पर अधिकारी नहीं ले रहे हैं संज्ञान : वहीं, प्रत्येक दिन सैकड़ों की संख्या में किसान चेवाड़ा बाजार के विभिन्न खाद दुकान के चक्कर काटने पर मजबूर हैं लेकिन किसानों को यूरिया खाद नहीं मिल पा रही है। समय पर यूरिया खाद नहीं मिलने से किसान का धान की फसल बर्बाद हो रहा है। जिसको लेकर किसान के द्वारा हंगामे के बाद भी अधिकारी इस पर संज्ञान नहीं ले रहे हैं। हालांकि खाद दुकान पर दंडाधिकारी की नियुक्ति की गई है ताकि खाद वितरण में किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो।

लेकिन एक भी अधिकारी दुकान पर नजर नहीं आ रहे हैं। वहीं, चेवाड़ा बाजार में मात्र एक स्थान पर खाद उपलब्ध कराया जा रहा है जो पिछले 1 सप्ताह पूर्व किसानों के द्वारा लगाए गए नंबर पर सोमवार को खाद जा रही है। साथ दुकानदारों के द्वारा मनमाने तरीके से ₹265 के स्थान पर ₹380 से लेकर ₹400 प्रति बोरे की बिक्री की जा रही है। यूरिया की किल्लत के कारण मजबूर होकर किसान ऊंचे कीमत पर यूरिया खाद करने पर मजबूर हो रहे हैं। इस संबंध में किसानों के द्वारा कई बार अधिकारियों से शिकायत की गई लेकिन अधिकारी के द्वारा अब तक किसी प्रकार की पहल नहीं की गई। जिसको लेकर किसानों में भी काफी आक्रोश देखा जा रहा है।

खबरें और भी हैं...