संकट:रोज बिगड़ रहे हालात; 118 संक्रमित मिलने से कुल सक्रमित 1651 हुए, दो की गई जान

शेखपुरा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शेखपुरा में 47, चेवाड़ा में 6, शेखोपुरसराय में 25, अरियरी में10 और बरबीघा मेंे 30 संक्रमित मिले

जिले में संक्रमण का प्रकोप लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके साथ ही कोरोना संक्रमित मरीज की भी मृत्यु की भी संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। वहीं, बुधवार को 118 कोरोना संक्रमित मिलने के बाद संख्या बढ़कर 1651 हो गयी है। बुधवार को भी दो जिले में 2 लोगों की मौत हो गई। आए दिन जिले में प्रतिदिन एक सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। बावजूद शहर के चांदनी चौक, कटरा बाजार, गिरिहिंडा चौक सहित विभिन्न स्थानों पर लगातार भीड़-भाड़ की स्थिति उत्पन्न हो रही है। जिसके कारण जाम की समस्या का भी सामना करना पड़ रहा है।

जिससे संक्रमण बढ़ने की संभावना बढ़ती जा रही है। लोगों की लापरवाही के कारण कोरोना प्रतिदिन घातक रूप लेता जा रहा है। इससे बचाव के लिए लोगों को पहले से अधिक एहतियात बरतने की आवश्यकता है। जिले में मिल रहे प्रतिदिन कोरोना संक्रमित मरीज के कारण लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। इसको लेकर सीएस डॉ.कृष्ण मुरारी प्रसाद सिंह ने बताया कि इस कोरोना काल में लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। गाइडलाइन का पालन करें और निर्देशों को मानें। जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलंे और घर से निकलते समय मास्क का प्रयोग जरूर करें। उन्होंने जिले वासियों से कहा कि बिहार सरकार के निर्देशानुसार 45 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोग निश्चित तौर पर अपने संबंधित टीकाकरण केंद्र पर जाकर आवश्यक टीका लें।

बुधवार को 118 नए संक्रमित मरीज मिले
बुधवार को 118 नए संक्रमित मरीज मिलने के बाद जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 1651 हो गई है। जिसे स्वास्थ्य विभाग के द्वारा होम आइसोलेट कर दिया गया है और अधिक गंभीर वाले मरीजों को कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया गया है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार शेखपुरा से 47, चेवाड़ा से 6, शेखोपुरसराय से 25, अरियरी से 10 एवं बरबीघा से 30 संक्रमित पाए गए हैं।

शेखपुरा में दो लोगों की मौत के बाद संख्या बढ़कर 54 हो गई
जिले में लगातार मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। बुधवार को भी दो जिले में 2 लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद जिले में मरने वालों की संख्या बढ़कर 54 हो गई है। जिसमें खाण्ड पर मोहल्ले निवासी बच्ची देवी को सांस लेने में तकलीफ होने के कारण निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इसके साथ ही गिरिहिंडा चौक निवासी डॉ.सतीश कुमार निराला की पत्नी को भी मंगलवार की देर रात सांस लेने में तकलीफ होने के बुधवार को इलाज के दौरान मौत हो गई। आए दिन सांस लेने में तकलीफ होने के कारण लगातार लोगों की मौत हो रही है। लोगों को सतर्क और जागरूक रहने की आवश्यकता है कोई भी समस्या होने पर तुरंत संबंधित स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर चिकित्सीय सलाह लेनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...