पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना इफेक्ट:इस बार सादे समारोह में होगा दुर्गा पूजा का आयोजन

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 5 फीट से कम की बनेगी मां दुर्गा की प्रतिमा, पंडालों में भीड़ नहीं लगाने का भी लिया गया फैसला

जिले में प्रत्येक साल दुर्गा पूजा की भव्यता शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में देखने को मिलती है। इस वर्ष अन्य धार्मिक अनुष्ठानों की तरह शहर के सबसे बड़े त्योहार दुर्गा पूजा पर भी कोरोना की काली छाया गहराने लगी है। आगामी 17 अक्टूबर को कलश स्थापना और 26 अक्टूबर को विजया दशमी है। वहीं, नगर पूजा समिति ने सादे समारोह में पूजा करने का निर्णय लिया है। इस बार ना ही कोई पंडाल बनेंगे और ना ही कोई साज सज्जा। दुर्गा प्रतिमा भी पांच फीट से कम होगी। जिले के इतिहास में यह पहला अवसर है।

गौरतलब है कि शेखपुरा में बड़ी दुर्गा जी के नाम से प्रसिद्ध स्वर्णकार माँ दुर्गा प्रतिमा की नींव लगभग 300 साल पहले रखी गई थी। इस प्रतिमा को लोग सोनरवा दुर्गा जी के नाम से भी जानते हैं। वहीं, इन्हें मनोकामना सिद्ध करने वाली माता के नाम से भी पुकारा जाता है। बताया जाता है कि शहर के मड़पसौना मोहल्ले के रहने वाले लक्ष्मी प्रसाद नामक एक स्वर्णकार ने इस प्रतिमा की नींव रखी थी तथा अपने सहयोगियों के साथ मिलकर लक्ष्मी प्रसाद ने सबसे पहले माहुरी टोला में इस प्रतिमा को स्थापित किया था।

मूर्ति विसर्जन में जुलूस नहीं निकालने का निर्णय
जिले के विभिन्न दुर्गा पूजा समिति ने सादे समारोह में दुर्गा पूजा करने का निर्णय लिया है। पूजा समिति के अध्यक्षों ने बताया कि शास्त्र सम्मत पूजा करने और समय पर विसर्जन करने का निर्णय लिया है। कलश स्थापना में भी कमिटियों से दो से पांच आदमी भाग ले सकेंगे। विसर्जन के दौरान कोई जुलूस नही होगा। विसर्जन में दस आदमी से अधिक नही हो इसका भी ख्याल रखा जाएगा। इसके साथ ही कोरोना को लेकर पूजा के दौरान भी सोशल डिस्टेंस का पूर्ण ख्याल रखा जायेगा।

मनोकामना सिद्ध करने वाली मानी जाती है बड़ी दुर्गा

सोनरवा दुर्गा जी मनोकामना सिद्ध करने वाली माता मानी जाती है। जिले के अलावा दूसरे राज्यों से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं तथा अपने सुख समृद्धि की कामना करते हैं। यहां पहुंचने वाले श्रद्धालु मंदिर के कायाकल्प के अलावा पूजा की तैयारियों में बढ़-चढ़कर अपनी भागीदारी भी निभाते हैं। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं द्वारा बढ़-चढ़कर चंदा दिया जाता है। लोगों की मान्यता है कि अगर सच्चे मन से यहां मन्नत मांगी जाती है तो माँ उसकी कामना जरूर पूरी करती है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें