कार्रवाई:अवैध रूप से संचालित दो अल्ट्रासाउंड केंद्र पर छापा,सीएस ने कर दिया सील

शेखपुरा25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के नालंदा एवं देवी अल्ट्रासाउंड सेंटर पर हुई कार्रवाई, सीएस बोले- अगर खोला होगी प्राथमिकी

शहर में अवैध रूप से चल रहे अल्ट्रासाउंड, जांच घर एवं क्लीनिक के खिलाफ स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कार्रवाई तेज कर दी है। जिसको लेकर शनिवार को प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. बीरेंद्र कुमार ने शेखपुरा नगर परिषद अंतर्गत दल्लु चौक एवं खांड पर मुहल्ले में अवैध रूप से संचालित अल्ट्रासाउंड केंद्र पर छापेमारी करते हुए उसे सील कर दिया। इस बाबत प्रभारी सिविल सर्जन ने बताया कि सूचना मिली थी कि बिना किसी डॉक्टर एवं रेडियोलॉजिस्ट के ही अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट तैयार की जा रही थी। जिसकी सूचना मिलने पर शहर के दोनों अल्ट्रासाउंड क्लीनिक पर छापा मारा गया।

जहां उपस्थित अल्ट्रासाउंड टेक्नीशियन से पूछताछ की गई। उनके द्वारा संतोषजनक जवाब नहीं दिए जाने के कारण उन पर कार्रवाई करते हुए अल्ट्रासाउंड क्लीनिक को सील कर दिया गया। उन्होंने कहा कि अगर अल्ट्रासाउंड केंद्र संचालक के द्वारा जबरदस्ती की दुकान खोलने की कोशिश करते हैं तो दोनों दुकानदार पर प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी।

वहीं, अल्ट्रासाउंड के लिए बैठे आधा दर्जन से अधिक मरीजों ने बताया कि यहां अधिक कीमत लेकर अल्ट्रासाउंड किया जाती है। लेकिन सदर अस्पताल में संचालित अल्ट्रासाउंड में समय पर जांच नहीं होने के कारण मजबूरन निजी अल्ट्रासाउंड में जांच कराना पड़ रहा है। जिसके कारण मरीजों को काफी परेशानी होता है।

भ्रूण लिंग विभेदन की भी विभिन्न स्थानों पर हो रही जांच

सीएस ने बताया कि जिले में विभिन्न स्थानों पर अवैध रूप से संचालित अल्ट्रासाउंड केंद्र में भ्रूण लिंग विभेदन की भी जांच की जाती है। गौरतलब है कि भ्रूण लिंग विभेदन का जांच करना पूरी तरह से गैरकानूनी है। इसके बावजूद भी अल्ट्रासाउंड के संचालकों के द्वारा मोटी रकम लेकर भ्रूण लिंग विभेदन की जांच कर रहे हैं। अल्ट्रासाउंड संचालक को काफी आमदनी हो रही है।

स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कई बार अभियान चलाया जा चुका है। बावजूद जिले के विभिन्न स्थानों पर अल्ट्रासाउंड केंद्र संचालित किए जा रहे हैं। वहीं, बरबीघा के भी विभिन्न स्थानों पर अवैध तरीके से लिंग निवेदन की जांच की जाती है। डॉ.बीरेंद्र कमर ने बताया कि शेखपुरा में कुल चार अल्ट्रासाउंड संचालित किए जा रहे हैं। जिसमें से मात्र एक अल्ट्रासाउंड पर ही डॉक्टर एवं रेडियोलॉजिस्ट की सुविधा उपलब्ध है।

खबरें और भी हैं...