उल्टा पड़ा दांव:बिना लाइसेंस कर रहा था आरा मशीन का संचालन, 4.50 लाख का जुर्माना ठोका

शेखपुरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टूटे हुए चबूतरे को दिखाते स्थानीय मोहल्लेवासी। - Dainik Bhaskar
टूटे हुए चबूतरे को दिखाते स्थानीय मोहल्लेवासी।
  • बरबीघा नगर परिषद के ईओ ने की कार्रवाई, पड़ोसी का अतिक्रमण भी हटवाया

बरबीघा नगर परिषद क्षेत्र के वार्ड 4 के चन्दूकुआं निवासी प्रकाश शर्मा के पुत्र सुनील कुमार ने जुलाई महीने में अपने पड़ोसियों के विरूद्ध अनुमण्डल लोक शिकायत निवारण कार्यालय में शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया कि उसने अपनी जमीन पर नवनिर्मित मकान बनाया है। जबकि मेरे घर तक जाने वाले रास्ते में मेरे पड़ोसियों द्वारा अवैध रूप से पुष्टा का निर्माण कर दिया गया है। जिसकी वजह से मेरे घर तक तक दो पहिया वाहन एवं ठेला को आने में भी समस्या हो रही है। सुनील कुमार ने कहा कि मेरा नया मकान वार्ड संख्या 3 के डगरपर मोहल्ले में है। जिसके सामने गैरमजरूआ आम रास्ता है। जिस पर मोहल्ले के कपिल प्रसाद, अर्जुन प्रसाद, राजेंद्र प्रसाद, महन्थ प्रसाद, अनिल प्रसाद एवं शंकर प्रसाद ने आम रास्ता पर अतिक्रमण कर पुष्टा का निर्माण कर लिया है। जिससे मुझे घर तक दोपहिया वाहन ले जाने में एवं घर तक सामान ले जाने के लिए ठेला या ट्रैक्टर ले जाने में समस्या हो रही है।

सुनील ने अतिक्रमण की शिकायत करायी थी, जांच में खुद भी आए पलेट में

नगर परिषद ने चबूतरा को तुड़वाया

दायर परिवाद के आलोक में अनुमंडलीय लोक शिकायत पदाधिकारी ने अमीन, नगर परिषद बरबीघा के द्वारा प्रश्नगत गली का नापी करवाया गया। बरबीघा नगर परिषद अमीन ने गली का नापी कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए वार्ड संख्या 3, मौजा डगरपर, थाना संख्या 36 के अंतर्गत खेसरा संख्या 1806 गैरमजरूआ आम रास्ता में परिवादी द्वारा सभी छह लोगों को अतिक्रमण करने का दोषी ठहराया। मापी प्रतिवेदन के आधार पर बरबीघा ईओ ने उपरोक्त सभी व्यक्तियों को अतिक्रमण हटाने का नोटिस निर्गत किया गया, परंतु उनलोगों के द्वारा अतिक्रमण नहीं हटाया गया। तत्पश्चात अनुमंडलीय लोक शिकायत पदाधिकारी के आदेश पर बरबीघा नगर परिषद ने कार्यवाही करते हुए सभी छह लोगों के द्वारा अतिक्रमण कर बनाये गये पुष्टा तोड़कर हटाया।

बिना नक्शा स्वीकृति के ही मकान का निर्माण कर लिया था
परिवादी के मकान की जांच संग्राहक द्वारा किया गया। जांचोपरांत पाया गया कि परिवादी सुनील कुमार उक्त स्थल पर नगर परिषद से बिना नक्शा स्वीकृति के मकान निर्माण किए हुए है। जिसमे फर्नीचर एवं लकड़ी का कारोबार करते है, जिसके कारण वायु एवं ध्वनि प्रदूषण होता है। साथ ही इनके द्वारा व्यापार करने का लाइसेंस भी नही लिया गया है। बरबीघा नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी विजय कुमार ने अवैध रूप से आरा मिल का संचालन कर रहे परिवादी सुनील कुमार को दोषी मानते हुये जांच प्रतिवेदन के आधार पर बिहार नगरपालिका अधिनियम-2007 की धारा 314, 315 एवं 342 तथा बिहार भवन उपविधि-2014 की धारा-76(3) एवं धारा-77 और बिना लाइसेंस का व्यापार करने पर बिहार नगरपालिका अधिनियम 2007 की धारा 426 के तहत दोषी मानते हुए चार लाख इकतालीस हजार सात सौ चालीस रुपये का जुर्माना निर्धारित किया है।

खबरें और भी हैं...