पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आस्था:मां कात्यायनी देवी की पूजा अर्चना से मनचाहे फल की होती है प्राप्ति आज दिया गया बेल को निमंत्रण

शेखपुराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नवरात्रि के छठे दिन गुरुवार को जिले भर में मां भगवती के कात्यायनी स्वरूप की पूजा अर्चना कर श्रद्धालुओं ने मां कात्यायनी से सुख समृद्धि की कामना की। परंपरा के अनुसार छठी के दिन बेल को निमंत्रण दिया गया। बेल निमंत्रण को लेकर स्वर्णकार दुर्गा पूजा समिति के सदस्यों ने माता के कमिश्नरी बाजार से बनिया टोला होते हुए मड़पसौना मोहल्ले स्थित नवल माली पहुंच बेल को निमंत्रण दिया। जबकि शुक्रवार को गाजे बाजे के साथ उक्त स्थान पर पहुंचकर बेल वृक्ष की पूजा की जाएगी। तत्पश्चात बेल को माता के स्थान पर लाया जायेगा।

जिसके बाद श्रद्धालुओं के लिए माता का पट खोला जायेगा। इस बाबत आचार्य केदार पांडेय ने बताया कि मां भगवती के छठे रूप मां कात्यायनी के आराधना और पूजा से भक्तों के बड़े से बड़े कष्ट भी सहज ही दूर हो जाते हैं और इस संसार में सुख भोगकर मृत्यु उपरांत मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस दिन साधक का मन आज्ञा चक्र में स्थित होता है। भक्त इस चक्र में अपना ध्यान केन्द्रित करते हुए मां कात्यायनी की आराधना करते हैं।

मां कात्यायनी की पूजा से भयों से मुक्त हो जाते है श्रद्धालु : उन्होंने बताया कि महर्षि कात्यायन के घर कन्या रूप में जन्म लेने के कारण इनका नाम कात्यायनी पड़ा। इनका स्वरूप अत्यन्त दिव्य तथा सुवर्ण की आभा वाला है। चार भुजाधारी मां कात्यायनी सिंह पर सवार हैं। अपने एक हाथ में तलवार और दूसरे में अपना प्रिय पुष्प कमल लिए हुए हैं। अन्य दो हाथों में वरमुद्रा और अभयमुद्रा में हैं। मां कात्यायनी की पूजा से व्यक्ति सभी प्रकार के भय से मुक्त हो जाता है और उसकी हर इच्छा पूरी होती है। जिन लोगों का विवाह नहीं हो रहा, मां कात्यायनी की पूजा से उनका विवाह भी शीघ्र हो जाता है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें