अभिनंदन समारोह:सेवानिवृत्त होकर 30 साल बाद जवान लौटा गांव, हुआ शानदार अभिनंदन

शेरघाटी11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शेरघाटी के चिताबकला पंचायत के बहेलिया बीघा में जन्मे सैनिक कामेश्वर मिस्त्री सेवानिवृत्ति के बाद घर लौटे तो ग्रामीणों ने उनका शानदार अभिनंदन किया। इन दिनों कामेश्वर रुड़की में तैनात थे। यहां से सेवानिवृत्त होकर वह घर आए तो लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया। सूबेदार कामेश्वर मिस्त्री के परिवार और गांव में देशभक्ति का जज्बा कूट-कूट कर भरा हुआ है। कृष्णदेव मिस्त्री के पुत्र कामेश्वर मिस्त्री वर्ष 16 दिसंबर 1991 में बंगाल इंजीनियर सेंटर रुड़की में भर्ती हुए थे। करीब 30 वर्ष देश की सेवा करने के बाद शुक्रवार को रिटायरमेंट लेकर वह गांव आए।

फिर मुख्य मार्ग से लेकर उनके गांव तक रैली निकाली गई। ढोल नगाड़े के साथ स्थानीय मुखिया जितेंद्र यादव, लोक कल्याण ग्रुप के डायरेक्टर दीपक कुमार, विनोद कुमार, शिवरतन शर्मा, कृष्णदेव, रामजतन शर्मा, महेंद्र शर्मा, विष्णुदेव यादव, इंद्रदेव यादव, संदीप यादव, नरेंद्र कुमार सिंह सहित सैकड़ों युवा काफिले के साथ इन्हें गांव लेकर आए। गांव के लोगों ने सेवानिवृत जवान कामेश्वर मिस्त्री को फूल मालाओं से लाद दिया। सेवाकाल में अलग-अलग रेजिमेंट में लेह-कारगिल, जम्मू-कश्मीर, इलाहाबाद, मेरठ, श्रीनगर, कुपवाड़ा, चंडीगढ़ सहित कई जगह पोस्टिंग हुई। रिटायर्ड जवान कामेश्वर मिस्त्री ने कहा कि जरूरत पड़ी तो वह पुनः सीमा पर जाकर देश की सेवा के लिए तैयार रहेंगे।

खबरें और भी हैं...