पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अवैध वसूली की मांग:अवैध वसूली मामले में इमामगंज सीएचसी के हेल्थ मैनेजर के खिलाफ होगी जांच

शेरघाटी24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • परितोषिक राशि व भ्रमण खर्च भुगतान के बदले अवैध राशि वसूलने का आरोप

अनुमंडल के इमामगंज सीएचसी में तैनात हेल्थ मैनेजर और ब्लॉक अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी पर आशा व आशा फैसिलिटेटरों से डरा धमका कर अवैध राशि वसूली किए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मामले को लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के विशेष सचिव सह कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने जांच के आदेश दिए हैं। सिविल सर्जन को भेजे गए पत्र में तीन सदस्यीय टीम गठित कर सात दिन के अंदर जांच रिपोर्ट मांगी है।बता दें कि आशा फैसिलेटर्स कुमारी नीलम सहित प्रखंड के अन्य सभी आशा फेसिलेटर व सभी आशा कार्यकर्ताओं ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के सरंक्षण में हेल्थ मैनेजर मनोज कुमार व प्रखंड अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी निरंजन कुमार के के खिलाफ डरा धमका अवैध राशि की वसूली किए जाने का आरोप लगाकर भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को आवेदन भेजा था। आशा कार्यकर्ताओं ने बिहार सरकार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को भी पत्र भेजे थे। इसके बाद ही उक्त लोगों के खिलाफ विभागीय जांच का आदेश दिया गया है।

हेल्थ मैनेजर पर धमका कर वसूली का आरोप
अवैध वसूली को लेकर आशा फेसिलेटर और आशा के रूप में कार्यरत महिलाओं द्वारा भेजे गए आवेदन में कहा गया है कि सीएचसी के प्रबंधक द्वारा आशा फेसिलेटर के भ्रमण खर्च के लिए दिए जाने वाले छह हजार रुपये के भुगतान के बदले में अवैध वसूली की मांग की गई और डराया धमकाया गया। शिकायत में यह भी कहा गया है कि एक हजार रुपये पारितोषिक राशि के भुगतान के बदले प्रति आशा अवैध रूप से दो-दो हजार रुपये की मांग की गई।
15 सौ रुपए सभी आशा से मांगने का आरोप
वर्ष 2020 के सितंबर, अक्टूबर व नवंबर माह का भ्रमण खर्च छह हजार रुपये प्रति माह के हिसाब से प्रति आशा फेसिलेटर को 18 हजार रुपये भुगतान किया जाना था। प्रखंड लेखापाल द्वारा भुगतान हेतू पेमेंट एडवाइस अस्पताल प्रबंधक को भेजा गया। इसके बाद अस्पताल प्रबंधक मनोज कुमार ने आशा फैसिलिटेटरों की बैठक की और प्रति माह 500 रुपये के हिसाब से प्रति आशा फेसिलेटर से 1500 रुपये की अवैध मांग की। अस्पताल प्रबंधक ने पैसों को पहले देने तथा बाद ही एडवाइस पर हस्ताक्षर कर बैंक में जमा करने की बात कही।

खबरें और भी हैं...