ग्रामीणों ने सुनाया फरमान:ओझा-गुणी करने का आरोप लगा पूरे परिवार को घर छोड़ने का ग्रामीणों ने सुनाया फरमान

बांकेबाजार8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गांव में हो रही मौत का ठहराया जिम्मेदारी, कुछ ग्रामीणों ने पीड़ित को जान मारने की दी धमकी

रौशनगंज थाना क्षेत्र के मकदा गांव के ग्रामीणों ने ओझा-गुणी का आरोप लगाकर पूरे परिवार को ही गांव छोड़ने का फरमान सुना दिया है। बैठक कर इस तरह का निर्णय ग्रामीणों ने लिया। इस तरह के फरमान के बाद परिवार के लोग डरे-सहमे हुए हैं। इस संबंध मे मकदा गांव के रहने वाले लाल बाबा उर्फ राज कुमार मंडल की पतोहु मीना देवी ने बताया कि हमारे ससुर पूजा पाठ करते रहते थे। इसी बीच गांव मे कुछ लोगों की मौत हुई है। मौत को लेकर गांव वाले ओझा-गुणी से घटना करने का आरोप मढ़ रहे हैं।

11 अप्रैल को ही गांव में की बैठक: गांव वालों ने 11 अप्रैल को ही गांव में बैठक कर आरोप लगाया कि गांव में जो भी मौत हो रही है, उसका जिम्मेदार हमारा ससुर है। एक-एक कर गांव वाले को गुणी के बल पर मारने की बात कह रहे थे। इनका कहना है कि पूरा परिवार गांव से चला जाए, नहीं तो घर में आग लगा दिया जाएगा और जान से मार दिया जाएगा। ग्रामीणों के इस निर्णय से ससुर उसी दिन घर से निकल गए और अब तक उनका कोई पता नहीं चल रहा है। हमलोग को गांव से 13 अप्रैल तक निकल जाने का फरमान जारी किया गया है।

डर इतना कि थाने पर जाने की हिम्मत नहीं
इस फरमान के डर से थाने पर जानकारी नहीं दी हैं और न ही गए हैं। हमारे घर मे ससुर, पति अखलेष मंडल, चार बच्चे, व देवर नवलेश मंडल व उनके पत्नी पैरी देवी व तीन बच्चे हैं। हमारे पति बाहर में दिल्ली जाकर दिहाडी का काम करते है व देवर ईट भट्‌ठे पर काम करते है। मकदा मे केवल रहने के लिए घर ही है। काम मिलने पर हमलोग दोनों गोतनी मजदूरी कर गुजर-बसर करते है।
दूसरे गांव जाकर मीडिया को बताई पीड़ा

ये मूलतः प्रखंड क्षेत्र के पननीया गांव के रहने वाले है। बताया कि इस तुगलकी फरमान से सभी परिवार डरा हुआ है। गांव वालों का डर इस कदर है, कि किसी को कुछ बता भी नहीं रहे। घर से चुपके से निकलकर दूसरे गांव में जाकर अपने बीते बात को मीडिया के सामने अपना दुख दर्द बताया है।

खबरें और भी हैं...