दियारा में गंगा का रौद्र रूप:बाढ़ का पानी गंगाैली तटबंध के करीब

सिमरी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीकांत राय के डेरा गांव में घुसा बाढ़ का पानी। - Dainik Bhaskar
श्रीकांत राय के डेरा गांव में घुसा बाढ़ का पानी।

गंगा ने अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया जिसके कारण श्रीकांत राय के डेरा टापू में तब्दील हो गया। इस गांव में आने जाने वाले सारे रास्ते बाढ़ की पानी की चपेट में आ गया है। जिसके कारण आने जाने वाले सारे रास्ते बंद हो चुके हैं। तो वही बाढ़ का पानी गंगाैली तटबंध के समीप पहुंच कर लालसिंह के डेरा इलाकों के मैदानी भाग में अपना पांव पसारना शुरू कर दिया है।

गंगा नदी के जलस्तर में जिस तरह तेजी से जल में वृद्धि हो रही है उसे देख कर तो यही अनुमान लगाया जा सकता है कि अगले एक दो दिनों के अंदर पूरा दियारे क्षेत्र का इलाका जलमग्न हो जायेगा। गंगा का रौद्र रूप देखकर दियारे क्षेत्र के किसान, पशुपालक के अलावे अन्य लोग काफी सहमे हुए हैं।

किसानों को सता रही फसल बर्बादी की चिंता
बाढ़ के पानी आ जाने से दियारे क्षेत्र के किसानों के बीच मायूसी छा गयी है।बाढ़ के पानी से दियारे क्षेत्र में उगाई गयी सब्जी की खेती बाढ़ के पानी से नष्ट हो चुकी है। तो वही पशुपालकों को पशुओं के चारे की व्यवस्था को लेकर परेशानियां उत्पन्न होने लगी है।

बिलारी क्षेत्र के हजारों लोग प्रतिदिन दूध सब्जी अनाज के अलावे अन्य सामान की खरीद बिक्री करने के लिए प्रतिदिन उत्तर प्रदेश के बलिया व्यापार हेतु जाते आते है। लेकिन बलिया मार्ग बंद हो जाने के कारण ग्रामीण क्षेत्र के व्यवसायियों के अलावे ग्रामीणों पर असर पड़ना शुरू हो गया है।

बिकेजी तटबंध पर नहीं है कोई इंतेजाम
डीएम अमन समीर द्वारा आदेश निर्गत कर बक्सर कोईलवर तटबंध की रखवाली हेतु सुरक्षा कर्मियों की प्रतिनियुक्ति करने का निर्देश दिया गया था। लेकिन तटबंध पर नही दिखे कोई सुरक्षा कर्मी और ना ही दिखा सुरक्षा का कोई माकूल इंतजाम।

लोगों को डरने की आवश्यकता नहीं
बीडीओ अजय कुमार सिंह ने बताया कि प्रशासन बाढ़ के पानी की वृद्धि पर पैनी नजर बनाये हुई है। किसी भी विषम परिस्थितियों से निपटने के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई है। ताकि समय रहते विषम परिस्थिति को संभाला जा सके।

खबरें और भी हैं...