• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Sirsa
  • Farmers Protest Against Bharatmala National Highway In Sirsa On 25th, Announcement Of Not Allowing The Highway To Be Built Till The Demands Of The Farmers Are Not Met

सिरसा में किसानों का महापड़ाव 25 को:किसान संगठनों ने भारतमाला हाईवे को लेकर खोला मोर्चा, आंदोलन के लिए बनाई संघर्ष समिति; 25 को लेंगे कब्जा

सिरसा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डबवाली की बिश्नोई धर्मशाला में बैठक करते हुए विभिन्न किसान संगठनों के नेता। - Dainik Bhaskar
डबवाली की बिश्नोई धर्मशाला में बैठक करते हुए विभिन्न किसान संगठनों के नेता।

हरियाणा के सिरसा में डबवाली की बिश्नोई धर्मशाला में शुक्रवार को हुई विभिन्न किसान संगठनों की बैठक में भारतमाला एनएच 754K नेशनल हाईवे से प्रभावित किसानों को लेकर चर्चा की गई। बैठक में भारतमाला संयुक्त संघर्ष मोर्चा का गठन किया गया। फैसला लिया गया कि जब किसानों की मांगों का समाधान नहीं होता वे किसी भी सूरत में हाईवे का निर्माण नहीं होने देंगे। 25 जनवरी को किसान महापड़ाव के बाद अपनी जमीनों पर कब्जा कर लेंगे।

बैठक में अखिल भारतीय किसान सभा, हरियाणा किसान एकता डबवाली, भारतीय किसान यूनियन चढ़ूनी, भारत भूमि बचाओ संघर्ष समिति, सीआईटीयू, राष्टीय किसान संगठन हरियाणा के पदाधिकारी और 9 गांवों के प्रमुख किसानों ने भ्काग लिया। बैठक में भारतमाला एनएच 754K नेशनल हाईवे से प्रभावित किसानों और आम जनमानस से जुड़े मुद्दों पर 4 घंटे चर्चा हुई। किसानी बचाने के साथ-साथ जवानी बचाने का मुद्दा भी अहम रहा।

संघर्ष समिति में ये पदाधिकारी

सभी जन संगठनों ने लंबी चर्चा के बाद भारतमाला संयुक्त संघर्ष मोर्चा का गठन किया। भारतमाला की लड़ाई इसी मोर्चे के नेतृत्व में लड़ी जाएगी। मोर्चे में जसवीर सिंह भाटी, मलकीत सिंह खालसा, गुरु प्रेम सिंह, एसपी सिंह मसीता, मुख पाल सिंह, एडवोकेट खुशदीप सिंह, गुरतेज सिंह, का. राकेश फगोडि़या, का. नत्थू राम भारुखेडा़, सोहनलाल भारुखेडा़, का. राजरानी और विशाल सिंह पदाधिकारी चुने गए। संगठन के नेता मुख्य रूप से गांव में प्रचार करेंगे।

किसान संगठनों की बैठक में शामिल किसान नेता।
किसान संगठनों की बैठक में शामिल किसान नेता।

25 को सिरसा रोड पर महापड़ाव

मोर्चे का गठन करने के बाद बैठक में तय हुआ की 21 जनवरी से डबवाली के भारतमाला से पीड़ित 9 गांव के साथ-साथ सभी गांव में 24 जनवरी तक प्रत्येक गांव गुहांड़ में जनसंपर्क करेंगे। इसके बाद 25 जनवरी को हजारों किसान मजदूर सिरसा रोड पर ऐतिहासिक महापड़ाव लगाएंगे। भारतमाला आंदोलन के साथ-साथ अवैध नशा तस्करों के खिलाफ जोरदार लड़ाई जारी रखेंगे।

जमीन पर कब्जा लेंगे

भारतमाला संयुक्त संघर्ष मोर्चा ने कहा जब तक सभी 9 गांव के किसानों के बाकी अवार्ड व तमाम किसानों की जायज मांगों को धरातल पर लागू नहीं किया जाएगा, तब तक किसान किसी भी सूरत में हाईवे का निर्माण नहीं होने देंगे। अवार्ड दिए बिना जिस भूमि काे सरकार अलोकतांत्रिक ढंग से लाठी गोली के दम पर कब्जाए बैठी है, 25 जनवरी को महापड़ाव लगाने के बाद किसान वापस कब्जा करेंगे।

सरकार टकराव चाहती है

बैठक में कहा गया कि इलाके का अन्नदाता देश के विकास में, क्षेत्र के विकास में और हाईवे निर्माण में किसी भी प्रकार की अड़चन पैदा नहीं करना चाहते। लेकिन भाजपा जजपा सरकार किसानों के साथ मुकाबला करना चाहती है, तो अब मुकाबला ही करेंगे।

ये रहे शामिल

आज की बैठक में किसान नेता जसवीर सिंह भाटी, एसपी सिंह मसीता, मलकीत सिंह खालसा, का. राकेश फगोडि़या, गुरु प्रेम सिंह, पैक्स प्रधान दयाराम उलाणिया,मुखपाल सिंह, खुशदीप सिंह, गुरतेज सिंह,का. राजरानी, मोहनलाल भाभू, निशांत भाभू, बलकार सिंह अबूबशहर, जसवीर अलिका, शिवचरण सिंह नंबरदार, प्रितपाल सिंह, लखपत सिंह, राम सिंह, राकेश कुमार, अजय सिंह, जेठाराम कंबोज राजपुरा और अनेक किसान नौजवान साथी उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...