पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का कहर:जिले में कोरोना वायरस के 20 नए पॉजिटिव मरीज मिले, 392 सैम्पल भेजे गए

सीवान7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में 24 घंटों के अंदर हुई जांच में 20 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिले है। सदर अस्पताल के ट्रू नेट लैब में जांच के दौरान गुरुवार को 07 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिले हैं। जांच में मैरवा प्रखंड के 01, बड़हरिया प्रखंड का 04 तथा सीवान सदर प्रखंड के दो व्यक्ति संक्रमित मिला हैं। पटना से आई आरटी पीसीआर जांच रिपोर्ट में रघुनाथपुर का एक तथा हुसैनगंज का एक व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिला है। शुक्रवार को 3290 व्यक्तियों की जांच रैपिड एंटीजन किट से इसमें 10 व्यक्ति कोरोना से संक्रमित मिले। इस दौरान 146 सैंपल टू नेट तथा 392 सैंपल आरटी पीसीआर जांच के लिए लिया गया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा आरटी पीसीआर जांच के लिए 300 तथा ट्रु नेट जांच के लिए 175 सैंपल का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। जिले में अब तक 2 लाख 26 हजार 162 सैंपलों की जांच हो चुकी है।इसमें 4009 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले है। इसमें से करीब 3835 व्यक्ति कोरोना से जंग जीत चुके हैं।करीब 27 कोरोना से संक्रमित लोगों की मौत भी हो चुकी है। जिले में अभी 137 व्यक्ति कोरोना के एक्टिव मरीज है।

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच मौसमी बीमारियों का भी खतरा, प्रोटोकॉल जारी
सीवान|
कोरोना वायरस संक्रमण से दुनिया पिछले 10 महीने से ज्यादा समय से जूझ रही है। मौसम में बदलाव के साथ ही मौसमी बीमारियों का भी खतरा बढ़ा है। मच्छरजनित बीमारियां डेंगू, मलेरिया और चिकुनगुनिया के मामले भी सामने आ रहे हैं, जबकि वायरल फ्लू या इन्फ्लूएंजा जैसी बीमारियों का बढ़ना भी इस कोरोना काल में ज्यादा खतरनाक है। कोरोना के साथ इन बीमारियों के उपचार का प्रोटोकॉल नहीं होने से चिकित्सक भी चिंतित थे। लेकिन अब केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोरोना के साथ इन बीमारियों के सह-संक्रमण के खतरे को देखते हुए दिशानिर्देश जारी किए हैं।

कोरोना के इलाज का असर न दिखे तो ये करें
गाइडलाइन में चिकित्सकों को सलाह दी गई है कि कोविड 19 के जिन हल्के या गंभीर मामलों में, इलाज का असर नहीं दिख रहा है, उनमें अन्य बैक्टीरियल संक्रमण पर भी नजर रखें। सभी माध्यमिक और टरशियरी अस्पतालों को डेंगू और कोविड के गंभीर मामलों के लिए तैयार रहने को कहा गया है। मरीजों की गहन निगरानी का निर्देश है।

कोरोना टेस्टिंग प्रोटोकॉल का होगा पालन
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि आईसीएमआर और मंत्रालय द्वारा जारी कोरोना वायरस के टेस्टिंग प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। प्रोटोकॉल के अलावा जब भी सह-संक्रमण का संदेह होगा, अन्य जरूरी जांच भी किए जाने चाहिए। कोरोना के इलाज की तमाम सुविधाओं की तरह मलेरिया, डेंगू और स्क्रब टाइफस के लिए, रैपिड डायग्नोस्टिक किट्स की उपलब्धता भी सुनिश्चित करने को कहा गया है।

सह-संक्रमण के लिए अलग से जांच करानी होगी
जारी दिशा-निर्देश में कहा गया है कि ‘सतर्कता व चौकसी, उच्च संदेह सूचकांक और सह-संक्रमण’ की संभावना के बारे में जागरुकता से चिकित्सकों को सह-संक्रमण के मामलों के खतरनाक परिणामों को रोकने और क्लीनिकल नतीजों को सुधारने में सहायता मिलेगी। इसके लिए कोरोना वायरस की जांच प्रक्रिया तो वही रहेगी, लेकिन संदेह होने पर संभावित सह-संक्रमण के लिए अलग से जांच करानी होगी, ताकि निदान हो सके।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें