पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छह से आठ तक होगी पढ़ाई:कल से खुलेंगे 882 मिडिल स्कूल, न तो सेनेटाइज हुआ, न मास्क की है व्यवस्था

सीवानएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूलों में  साफ सफाई कराते शिक्षक। - Dainik Bhaskar
स्कूलों में साफ सफाई कराते शिक्षक।
  • कोरोना के कारण बंद हुए थे स्कूल, 50 फीसदी बच्चों की रहेगी उपस्थिति
  • कोरोना को लेकर जारी गाइडलाइन का करना होगा पालन, प्राइवेट स्कूलों को भी निर्देश

जिले के सभी मिडिल स्कूल यानि क्लास छह से लेकर आठवीं तक के क्लास में सोमवार से पठन- पाठन का कार्य शुुरू हो जाएगा। कोरोना वायरस को लेकर 10 माह से ज्यादा समय से स्कूलों में पठन- पाठन बंद है। आठ फरवरी से 50 फीसदी बच्चों के साथ पढ़ाई शुुरू करने का निर्देश दिया गया है। स्कूल संचालित करने के लिए स्कूलों की साफ- सफाई कराई जा रही है। लेकिन, किसी भी स्कूल को सेनेटाइजेशन नहीं कराया गया है। किसी भी स्कूलों में बच्चों के लिए मास्क भी उपलब्ध नहीं कराया गया है। इस वजह से बच्चे बिना सेनेटाइज हुई स्कूल में बिना मास्क पहने ही जाकर पढ़ाई करने के लिए मजबूर होंगे। विभागीय आदेश के अनुसार स्कूलों में प्रत्येक बच्चों को दो- दो मास्क विभाग द्वारा उपलब्ध कराया जाना है। इसकी जिम्मेवारी जीविका को दी गई है। जीविका इस मास्क को डीईओ ऑफिस को उपलब्ध कराएगी, जहां से बच्चों की संख्या के हिसाब से मास्क का वितरण किया जाएगा। लेकिन, स्कूल खुलने में अब महज एक दिन शेष बच गया है। इस हालत में अब तक मास्क नहीं आने से बच्चों के साथ अभिभावक व शिक्षक भी चिंतित हैं। डीईओ मो. माेतिउर रहमान ने कहा कि जीविका द्वारा मास्क उपलब्ध कराते ही उसे स्कूलों में भेज दिया जाएगा। जबकि जीविका के डीपीएम राकेश रंजन नीरज ने कहा कि मास्क उपलब्ध कराने के लिए ग्रामीण विकास विभाग से किसी भी तरह का निर्देश नहीं मिला है। जिले में एक हजार जीविका दीदी चिन्हित है, जो मास्क बनाने का काम करती है। इस तरह एक दिन में 50 हजार मास्क बनाया जा सकता है। मास्क उपलब्ध कराने में एक सप्ताह से 10 दिन का समय लगेगा।

विद्यालय मद से ही कराना है सेनेटाइज| डीईओ ने कहा कि स्कूल को सेनेटोइजेशन का काम विद्यालय विकास मद की राशि से कराना है। स्कूलों का सेनेटाइजेशन का कार्य सोमवार से पहले होने की उम्मीद नहीं है। जबकि मास्क भी एक सप्ताह बाद ही मिलेगी। इस तरह बच्चों को बिना मास्क के ही स्कूल जाना मजबूरी हो सकती है। जिले में 882 सरकारी मिडिल स्कूल है, जहां पर पढ़ाई शुरु होगी। प्राइवेट स्कूलों में बच्चे खुद मास्क खरीद कर ले जाएंगे।
हर दिन स्कूल आएंगे सभी शिक्षक| शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने जारी अपने अादेश में कहा है कि स्कूल खुलने पर बच्चे 50 फीसदी उपस्थिति के साथ ही स्कूल आएंगे। शेष 50 फीसदी अगले दिन स्कूल आएंगे। इससे सोशल डिस्टेंस का पालन होगा। हालांकि सभी शिक्षकों की उपस्थिति प्रतिदिन होगी।

व्यवस्था देखने के लिए टीम का गठन| स्कूल की साफ सफाई, सेनेटाइजेशन, साबुन आदि की व्यवस्था विद्यालय शिक्षा समिति द्वारा किया जाएगा। इस व्यवस्था को देखने के लिए टीम का भी गठन होगा। इसमें शिक्षक, विद्यालय शिक्षा समिति के सदस्य व छात्रों को शामिल किया जाएगा। स्कूलों में बच्चों को कम से कम छह फीट की दूरी पर बैठाया जाएगा। स्कूल के प्रवेश व निकास द्वारा पर सोशल डिस्टेंस का पालन करने के लिए समय निर्धारित होगा।

शिक्षक भी छह फीट की दूरी का करेंगे पालन| स्कूलों शिक्षक व स्टॉफ भी छह फीट की दूरी का पालन करते हुए ऑफिस में बैठेंगे। अगर किसी स्कूल में बच्चों की संख्या ज्यादा है तो उस स्कूल का संचालन दो पालियों में कराने के लिए निर्देश दिया गया है। किसी क्लास रूम का आकार छोटा हो तो कम्प्यूटर कक्ष व लाइब्रेरी रूम में क्लास संचालित करने के लिए कहा गया है। समारोह व त्योहार के आयोजन से बचने के लिए कहा गया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें