पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नोटिस:10 दिनों में 3197 मिट्रिक टन सीएमआर चावल जमा नहीं करने पर होगी कार्रवाई

सीवान9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीवान सेंट्रल को-आपरेटिव बैंक के माध्यम से पैक्सों को भेजा जा रहा है नोटिस, गोदाम में जगह की है कमी
  • एफआईआर दर्ज किए जाने के साथ ही चुनाव लड़ने से भी अध्यक्ष होंगे वंचित

जिले में धान की खरीदारी के बाद पैक्सों द्वारा बिहार राज्य खाद्य निगम को चावल जमा किया जा रहा है। शासन ने 31 जुलाई तक ही चावल लेने का अंतिम समय रखा है। अबतक 93 फीसदी चावल एसएफसी ने प्राप्त कर लिया है। दस दिनों में 3197 एमटी सीएमआर चावल जमा नहीं करने पर विभाग ने कड़ा कदम उठाने का फैसला लिया है। विभाग ने आदेश दिया है कि 31 जुलाई तक सीएमआर चावल जमा नहीं करने वाले पैक्सों के अध्यक्ष और प्रबंधक के खिलाफ सीवान सेंट्रल को-अापरेटिव बैंक से लोन की राशि लेकर पैसा का दुरूप्रयोग किये जाने का प्राथमिकी दर्ज होगा। इसके अलावा अध्यक्ष को भविष्य में चुनाव लड़ने से वंचित किया जायेगा और वर्तमान अध्यक्ष की कुर्सी भी चली जाएगी। इस जिले में सहकारिता विभाग ने 66 हजार 586 एमटी धान की खरीदारी की है और सरकार से 75 हजार एमटी का लक्ष्य प्राप्त हुआ था। खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने खरीदे गए धान के समतुल्य 44610 एमटी सीएमआर चावल लेने का लक्ष्य रखा है। इसके स्थान पर अभी तक 41413 एमटी सीएमआर चावल की खरीदी हो गयी है।

गोदामों में जगह है बहुत कम
एसएफसी के गोदामों में पर्याप्त जगह नहीं रहने से स्वीकृतादेश भी समय से नहीं निकल रहा है। इसके कारण पैक्सों व मिलरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। नरेंद्रपुर गोदाम में गेहूं भरे रहने के कारण चावल लेने में देरी हो रही है। जिसके कारण जगह की समस्या बनी हुई है। गोदाम से गेहूं खाली करने को लेकर एजीएम सीएमआर से जिला सहकारिता पदाधिकारी ने बात की है। उन्होंने कहा है कि आरओ जारी कर गेहूं को लक्षित जन वितरण प्रणाली के गोदामों भेजा जाए ताकि जगह उपलब्ध होने पर चावल रखा जा सके। डीसीओ ने बताया कि चावल देने में दरौली, रघुनाथपुर, आंदर, भगवानपुर हाट, दरौंदा और गोरेयाकोठी प्रखंडों की स्थिति ठीक नहीं है।

गोदामों में जगह है बहुत कम
जिले में 117 समितियों ने 2690 किसानों से 12612.500 एमटी गेहूं की खरीदारी की। जिसके बाद एसएफसी को शत प्रतिशत गेहूं जमा कर दी गई है। इस बार अन्य वर्षों के अपेक्षा गेहूं की खरीदारी अधिक हुई थी। इसके लिए 110 पैक्स और 07 व्यापार मंडलों को चयन किया गया था। जिसमें आंदर 648, बड़हरिया 675, बसंतपुर 135, भगवानपुरहाट 864, दरौली 2025, दरौंदा 513, गोरेयाकोठी 634.500, गुठनी 729, हसनपुरा 162, हुसैनगंज 459, लकड़ीनवीगंज 270, महाराजगंज 567, मैरवा 81, नौतन 746, पचरूखी 27, रघुनाथपुर 1377, सिसवन 1404, सीवान सदर 486 और जीरादेई ने 810 एमटी गेहूं एसएफसी को दिया है।

31 जुलाई तक सीएमआर चावल की आपूर्ति नहीं किए जाने पर संबंधित पैक्सों के अध्यक्ष और प्रबंधक पर प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। इसके साथ ही वैसे पैक्सों को चिन्हित कर चुनाव लड़ने से वंचित कर दिया जाएगा। 93 प्रतिशत सीएमआर चावल की आपूर्ति एसएफसी को कर दी गई है। संतोष कुमार झा, जिला सहकारिता पदाधिकारी सीवान

सीएमआर चावल नहीं देने वाले 13 पैक्सों को नोटिस
स्वीकृतादेश जारी होने के बाद भी सीएमआर चावल एसएफसी को नहीं देने वाले पैक्सों को लगातार सीवान सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक के माध्यम से नोटिस भेजा जा रहा है। ससमय लक्ष्य को प्राप्त कर लिया जाए इसको लेकर लगातार जिला सहकारिता पदाधिकारी संतोष कुमार झा मॉनिटरिंग कर रहे है। उन्होंने बताया कि लगातार प्रखंड सहकारिता प्रसार पदाधिकारी और सीवान सेंट्रल को-आपरेटिव बैंक के मैनेजर क्षेत्र में ही रह रहे है ताकि ससमय में चावल एसएफसी को उपलब्ध कराया जा सके। इसके साथ ही नोटिस भी दिया जा रहा है। बताया कि सिसवन प्रखंड के गंगपुर सिसवन, गोरेयाकोठी प्रखंड के कर्णपुरा, सिसई, नौतन प्रखंड के सेमरिया, मठिया, मैरवा प्रखंड के बड़का मांझा, भगवानपुरहाट प्रखंड के भिखमपुर, दरौंदा प्रखंड के कोडारी कला, बाल बंगरा, पचरूख प्रखंड के उखई, दरौली प्रखंड के हडना टाल, महारागंज प्रखंड के जिगरहवां, सारंगपुर पैक्स को नोटिस भेजा गया है ताकि ससमय सीएमआर की आपूर्ति करें।

खबरें और भी हैं...